तो इसलिए दी जाती है प्रोसेस्ड फूड से दूर रहने की सलाह

 तो इसलिए दी जाती है प्रोसेस्ड फूड से दूर रहने की सलाह

प्रोसेस्ड फूड ऐसे खाद्य पदार्थ होते हैं, जिन्हें पहले से बनाकर रख दिया जाता है व लंबे समय तक संरक्षित रखने के बाद उपयोग किया जाता है. लंबे समय तक बेकार होने से बचाए रखने के लिए इनमें ऐसी सामग्री का प्रयोग होता है जो केमिकल से भरपूर होती है.

इनको सुन्दर बनाए रखने के लिए तरह-तरह के रंगों व कृत्रिम या रासायनिक पदार्थों (आर्टिफिशियल फ्लेवर्स) का प्रयोग किया जाता है. यही कारण है कि लंबे समय तक इनके सेवन का स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव पड़ता है.

www.myupchar.com के अनुसार, प्रोसेस्ड फूड के नियमित सेवन से मोटापा, हार्ट संबंधी बीमारियां, टाइप 2 डायबिटीज व कैंसर जैसी खतरनाक बीमारी होती है. ऐसे खाद्य पदार्थों में केक, चिकन, सोडा, प्रोसेस्ड मीट, तत्काल बनने वाले नूडल्स, चॉकलेट आदि शामिल हैं.

इसलिए दी जाती है प्रोसेस्ड फूड से दूर रहने की सलाह
प्रोसेस्ड फूड में अत्यधिक मात्रा में शुगर होती है. कई प्रोसेस्ड फूड में हाई फ्रक्टोज़ कॉर्न सिरप होता है. शुगर को खाली कैलोरी भी बोला जाता है, क्योंकि इसमें कोई पोषक तत्व नहीं होता है. इससे डायबिटीज का खतरा बढ़ता है. यदि समय रहते इस स्थिति को कंट्रोल न किया जाए तो फैट की चर्बी व कैंसर होने कि सम्भावना है.

www.myupchar.com से जुड़ी डाक्टर मेधावी अग्रवाल के अनुसार, प्रोसेस्ड फूड अस्थमा व सांस लेने में तकलीफ जैसी श्वसन संबंधी समस्याओं का कारण बनते हैं. यह खतरा बच्चों में अधिक रहता है. एक अध्ययन में खुलासा हुआ है कि जो बच्चे सप्ताह में कम से कम तीन बार ऐसी चीजें खाते हैं, उनमें अस्थमा की संभावना अधिक होती है. फ्रेंच फ्राइज़ जैसे खाद्य पदार्थों में सोडियम की अधिकता होती है. इनके सेवन से सिरदर्द होता है.


ऐसी चीजों का अधिक सेवन इंसान को डिप्रेशन में भेजता है. कारण प्रोसेस्ड फूड के सेवन से हार्मोन्स का संतुलन बिगड़ता है, जिसके कारण डिप्रेशन होता है. जो लोग प्रोसेस्ड फूड का अत्यधिक सेवन करते हैं, उनकी स्कीन पर फोड़े-फुंसियां अधिक होते हैं. अधिक मसालेदार खाने के कारण ऐसा होता है. फास्ड फूड में उपस्थित कार्ब्स मुंहासे पैदा करते हैं. जो बच्चे अत्यधिक प्रोसेस्ड फूड खाते हैं, उनके दांत जल्दी बेकार हो जाते हैं. प्रोसेस्ड फूड में उपस्थित चीनी व एसिड के कारण ऐसा होता है.

प्रोसेस्ड फूड में उपस्थित सोडियम हाई ब्लड प्रेशर का कारण बनता है व इसका सीधा प्रभाव इंसान के हार्ट पर पड़ता है. एक स्टडी के मुताबिक, 90 प्रतिशत लोगों को यह पता नहीं होता है कि वे जो प्रोसेस्ड फूड खा रहे हैं, उसमें सोडियम की मात्रा कितनी है.


प्रोसेस्ड फूड से दिमाग के कार्य करने की क्षमता पर प्रभाव पड़ता है. शरीर भी आलस्य महसूस करता है. इसीलिए बोला गया है कि इम्तिहान के दौरान प्रोसेस्ड फूड खाने से बचना चाहिए, क्योंकि यह तनाव पैदा करता है.

प्रोसेस्ड फूड से ऐसे बनाएं दूरी
आमतौर पर वे लोग प्रोसेस्ड फूड का सेवन ज्यादा करते हैं जो परिवार से दूर रहते हैं. प्रयास करें कि बाहर का खाना खाने के बजाए घर का खाना खाएं. यदि बच्चे प्रोसेस्ड फूड या जंक फूड की मांग करते हैं तो घर पर कुछ ऐसा बनाएं जो जंक फूड की तरह स्वादिष्ट व दिखने में सुन्दर लगे. वयस्क लोग नियमित ज़िंदगी शैली अपनाएं. खाने-पीने के समय निश्चित रखेंगे व उसका सख्ती से पालन करेंगे तो प्रोसेस्ड फूड जैसी चीजों से दूर रहेंगे.