चलिए जानते हैं कैसे बनता है ये हींग का काढ़ा

चलिए जानते हैं कैसे बनता है ये हींग का काढ़ा

खान-पान में गड़बड़ी या फिर दैनिक काम में अनियम के कारण लोग अक्सर पेट दर्द के साथ कब्ज व एसिडिटी जैसी दिक्कतों की कठिनाई झेलते हैं। जिसके कारण लोग अपनी इस परेशानी से निपटने के लिए एलोपैथी दवाओं का मदद लेते हैं।

 लेकिन इन मेडिसिन के शरीर पर कई दुष्प्रभाव पड़ते हैं जो समय के साथ देखने को मिलते हैं। ऐसे में इस प्रकार की दिक्कत्तों से निजात पाने के लिए आप घर पर ही मौजूद कुछ आयुर्वेदिक उपचार आजमा सकते हैं। जिसमें सबसे प्रचलित है घर पर बना हींग का काढ़ा, जो पेट में दर्द होन वाली दिक्कतों से आपको तुरंत निजात दिलाता है। तो चलिए जानते हैं कैसे बनता है ये हींग का काढ़ा।

घर पर बना ये आयुर्वेदिक हींग का काढ़ा सभी लोगों के लिए लाभदायक होता है। इस काढ़े को पीने से एसिडिटी से लेकर पेट गैस व पेट के मरोड़ से पांच मिनट में राहत मिल जाती है। आयुर्वेद में इस काढ़े को हींगाष्टक कहा जाता है। इसलिए ऐसा बोला जाता है क्योकि ये 6 सामग्रियों से मिलकर बना होता है।

साम्रगी-

अजवायन- 1/2 स्पून

शेपा (शतपुष्प बीज)- 1/2 स्पून

हींग- 1/4 स्पून

काला नमक- स्वादअनुसार

मुलेठी- एक छोटा टुकड़ा 1 सेन्टीमीटर

सौंठ- एक टुकड़ा

इस काढ़े को बनाने के लिए सर्वप्रथम सारी चीजों को 250 मिली लीटर पानी में एक साथ डालकर अच्छे से उबाल ले। पांच मिनट तक इसे अच्छी ढंग से उबलने दें व उसके बाद इसे छान लें। खाना खाने के आधे घंटे के बाद इस काढ़े को पिए आपकी पाचन क्रिया बेहतर होगी। अगर आपके शिशु को पेट दर्द या कब्ज की परेशानी हो रही है तो इस काढ़े को स्पून से पिलाएं। दस मिनट में ही दर्द दूर हो जाएगा।