जानिए होम क्वारंटाइन में रहते हुए हिंदुस्तान में किन नियमों का करना होगा पालन, पढ़े खबर

जानिए होम क्वारंटाइन में रहते हुए हिंदुस्तान में किन नियमों का करना होगा पालन, पढ़े खबर

कोरोना वायरस अब तक कहर मचा रहा है. अब पूरी संसार में शायद ही कोई देश होगा, जहां इसका प्रभाव न पहुंचा हो. इन दशा में संक्रमितों के साथ मरने वालों की संख्या में भी लगातार बढ़ोतरी हो रही है.

हिंदुस्तान सहित दुनियाभर के राष्ट्रों की सरकारों के सामने लोगों को आइसोलेट करने व क्वारंटाइन करने के अतिरिक्त कोई तरीका नहीं है. www.myupchar.com से जुड़े एम्स के अजय मोहन के अनुसार, जब तक कोरोना वायरस का उपचार नहीं मिल जाता, तब तक ये सावधानियां ही उपचार हैं. दुनिया स्वास्थ्य संगठन ने भी आइसोलेट व क्वारंटाइन करने संबंधी दिशा-निर्देश जारी किए हैं. समय-समय पर इनमें महत्वपूर्ण परिवर्तन भी किए जा रहे हैं. इन्हीं दिशा-निर्देशों को हिंदुस्तान में भी लागू किया जा रहा है. इसमें देश, काल व हालात के हिसाब से कुछ परिवर्तन किए गए हैं. होम क्वारंटाइन में रहते हुए हिंदुस्तान में किन नियमों का पालन करना पड़ेगा, आइए इस बारे में विस्तार से जानते हैं –

इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) ने होम क्वारंटाइन पर गाइडलाइंस अपनाने की अपील की है. गाइडलाइन में साफ बोला गया है जो लोग विदेश की यात्रा करके आए हैं या विदेश यात्रा करने वाले लोगों के सम्पर्क में आए हैं व उनमें कोरोना के लक्षण नहीं दिख रहे हैं, उन्हें भी घर में होम क्वारंटाइन में 14 दिन रहना चाहिए. इसके अतिरिक्त जो पॉजिटिव केस भी हैं, उन्हें भी होम आइसोलेशन में 14 दिन रहना महत्वपूर्ण है.

तो करवाना ही होगा टेस्ट

गाइडलाइन के मुताबिक जो लोग विदेश की यात्रा करके आए हैं व 14 दिन होम क्वारंटाइन अवधि में बुखार, कफ, सांस लेने में तकलीफ जैसे लक्षण दिखें तो टेस्ट करवाना चाहिए. अगर कोरोना टेस्ट पॉजिटिव आए तो इन लोगों को आइसोलेट करके स्टेंडर्ड प्रोटोकॉल के तहत उपचार करवाना चाहिए व चिकित्सक और स्वास्थ्यकर्मियों को योगदान देना चाहिए.

वहीं स्वास्थ्य मंत्रालय की गाइडलाइंस के मुताबिक, होम क्वारंटाइन के दौरान संदिग्ध का कमरा खुली हवा वाला होना चाहिए. प्रयास यह की जानी चाहिए कि परिवार का अन्य कोई मेम्बर उसके सम्पर्क में न आए. व यदि स्थान की कमी है तो कमरे में अन्य मेम्बर भी रह सकते हैं, लेकिन संदिग्ध कोरोना पीड़ित से कम से कम 2 गज की दूरी बनाना महत्वपूर्ण है.

होम क्वारंटाइन के दौरान बुजुर्गों, गर्भवती महिलाओं, बच्चों से दूर रहें. इस दौरान घर में वह आदमी बिल्कुल न घूमें. किसी भी हालात में वह किसी भी समारोह, शादी, पार्टी में न जाएं.

इन नियमों का पालन जरूर करें

www.myupchar.com से जुड़े एम्स के अजय मोहन के अनुसार, नियमित साबुन व पानी से हाथ धोएं व एल्कोहल बेस्ड हैंड सेनिटाइजर का प्रयोग लगातार करते रहें.

अपने कमरे के अतिरिक्त घर की अन्य चीजों जैसे पानी के बर्तन, तौलिए आदि को बिल्कुल भी न छुएं.

होम क्वारंटाइन के दौरान सर्जिकल मास्क लगाकर रहें. हर 6-8 घंटे में मास्क बदलते रहें.

परिवार के सिर्फ एक मेम्बर को ही संदिग्ध की देखभाल करनी चाहिए, इस दौरान परिवार के अन्य सदस्यों को दूर रहना चाहिए व स्कीन सम्पर्क स्थापित करने से बचना चाहिए.

घर में रोज डिसइंफेक्टेंट और फिनाइल से सफाई करें. घर के अन्य मेम्बर दस्ताने पहनकर रखें. दस्ताने उतारने के बाद हाथों को साबुन से अच्छी तरह से धोएं.

संदिग्ध व परिवार के अन्य सदस्यों को खान-पान में सावधानी रखनी चाहिए. खानपान में विटामिन ‘सी’ युक्त आहार जरूर शामिल करना चाहिए.