कोरोना वायरस का संक्रमण बच्चों के लिए कितना खतरनाक, आइए जानिए

कोरोना वायरस का संक्रमण बच्चों के लिए कितना खतरनाक, आइए जानिए

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के प्रमुख ने सोमवार देर शाम को बोला कि कोरोना वायरस का संक्रमण बुजुर्गों व बच्चों को मार सकता है. 

डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक डाक्टर टेड्रोस गेब्रेयसस ने एक प्रेस ब्रीफिंग में बोला कि 60 से अधिक आयु की आबादी ज्यादा जोखिम में है,  लेकिन कोरोना का संक्रमण बच्चों के लिए भी खतरनाक साबित हो रहा है. डब्ल्यूएचओ ने दोनों आयु समूहों व और गर्भवती स्त्रियों के लिए नया नैदानिक मार्गदर्शन जारी किया है.

महानिदेशक ने बोला कि सभी राष्ट्रों के लिए यह आवश्यक है कि वे हर संदिग्ध मुद्दे का परीक्षण करें व किसी भी संक्रमण को तुरंत एकांत में रखें. जब लक्षण गायब हो भी जाएं तो रोगियों को 14 दिन के लिए अलगाव में रहना ही चाहिए. उन्होंने बताया कि पिछले हफ्ते में महामारी से संक्रमण के मामलों में तेजी से वृद्धि हुई है. चाइना की तुलना में बाहर अधिक मुद्दे मिले हैं व मौतें भी हुई हैं. 

आंखों पर पट्टी बांधकर आग से नहीं लड़ सकते : 
दुनियाभर में कई कदम उठाए गए हैं लेकिन अधिक परीक्षण, एकांत में रखने जैसे कदमों में कमी रही है. ये ज्यादा महत्वपूर्ण है. आप आंखों पर पट्टी बांधकर आग से नहीं लड़ सकते. यदि हम यह नहीं जानते हैं कि संक्रमित कौन है तो हम महामारी को नहीं रोक सकते. 

संदेश- परीक्षण व परीक्षण : 
डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक ने बोला कि हमारे पास सभी राष्ट्रों के लिए एक आसान संदेश है: परीक्षण, परीक्षण व परीक्षण. प्रत्येक संदिग्ध मुद्दे का परीक्षण करें. यदि वे सकारात्मक परीक्षण करते हैं, तो उन्हें अलग-थलग करें व पता लगाएं कि लक्षणों के विकसित होने के 2 दिन पहले तक वे किसके निकट सम्पर्क में थे, व उन लोगों का भी परीक्षण करें. 

अपील : जमाखोरी से बचें : 
डब्ल्यूएचओ ने लोगों से दवाओं सहित आवश्यक वस्तुओं की जमाखोरी से बचकर पीड़ितों की मदद करने के लिए एकजुटता जाहीर करने के लिए भी बोला है.  

आभार : वैश्विक फंड में सहयोग के लिए शुक्रिया : 
डब्ल्यूएचओ प्रमुख ने बोला कि हम उन सभी के आभारी हैं जिन्होंने कोविड-19 सॉलिडेरिटी रिस्पॉन्स फंड में सहयोग दिया है. हमने इसे शुक्रवार को लॉन्च किया था. तब से 1.10 लाख से अधिक लोगों ने लगभग 141 करोड़ रुपये (19 मिलियन डॉलर) का सहयोग दिया है. यदि आप सहयोग देना चाहते हैं, तो कृपया वेबसाइट who.int पर जाएं व पृष्ठ के शीर्ष पर ऑरेंज कलर के दान बटन पर क्लिक करें.