कोरोना वायरस से इन लोगो को है ज्यादा खतरा शोध में पाए जानकारी

कोरोना वायरस से इन लोगो को है ज्यादा खतरा शोध में पाए जानकारी

ताइवान में हुए एक तजा अध्ययन में सामने आया है कि स्त्रियों से ज्यादा पुरुषों को कोरोना वायरस से खतरा है. इस अध्धयन में वर्तमान कोरोना बीमारी या कोविड-19 व  2003 कि सार्स (सीवियर एक्यूट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम) बीमारी में अंतर भी बताया गया है.

 2003 मेँ सीवियर एक्यूट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम चाइना के हुबेई प्रान्त में फ़ैलास था जिसमे चाइना व होन्ग कॉंग के 774  लोग मारे गए थे, सार्स का पहला केस कोरोना वायरस के आपसी उत्परिवर्तन के कारण पैदा हुआ था. 

इस नए वायरस का नाम सार्स-Co V  नाम दिया गया था. माना जा रहा है कि सार्स-Co V-2 नामका वायरस ही वर्तमान की कोविड-19 महामारी का कारण है.  

द ट्रैवल मेडिसिन एंड इन्फेक्शस में प्रकाशित हुई रिपोर्ट में कोरोना वायरस  का कारण बताया गया है, इस शोध में बोला गया कि ताइवान में 31 जनवरी तक सामने आए थे व सार्स मरीज यहां 25 अप्रैल से 19 मई 2003 तक रहे थे. 

इस अध्ययन में पाया गया है कि महिलाएं पुरुषों से ज्यादा इस सार्स बीमारी ( प्रभावित होने वाले पुरुष स्त्रियों को अनुपात 0.52:1) से प्रभावित होती हैं. जबकि कोविड-19 से वुहान में पुरुष व स्त्रियों के प्रभावति होने का रेशियो है 1.3:1. कुल मिलाकर कोरोना बीमारी से पुरुषों को ज्यादा खतरा है.

सार्स से 5 से 90 की आयु वाले लोग मुख्य रूप से प्रभावित होते हैं. हालांकि औसतन 36.6 वर्ष कोरोना की तुलना में 20 वर्ष कम है.

अध्ययन के आंकड़ों के अनुसार कोविड-19 पुरुषों को ज्यादा प्रभावित करता है. जो कि सार्स की तुलना में उल्टा है. इसके अतिरिक्त कोविड-19 से प्रभावित होने वाले ज्यादातर लोगों की आयु सार्स के मरीजों से 20 वर्ष कम है.

देश में 258 हुई मरीजों की संख्या -

देश में कोरोना वायरस के मामलों में लगातार बढ़ोतरी हो रही है. अब तक 258 मुद्दे सामने आ चुके हैं. महाराष्ट्र में कोरोना के सबसे अधिक 63 पॉजिटिव मरीज पाए गए हैं. पीएम मोदी ने गुरुवार को देश के नाम संबोधन में लोगों से रविवार को प्रातः काल सात बजे से रात नौ बजे तक जनता कर्फ्यू का आह्वान किया है.

जनता कर्फ्यू के मद्देनजर देश में शनिवार मध्यरात्रि से रविवार रात दस बजे के बीच किसी भी स्टेशन से कोई यात्री ट्रेन सफर प्रारम्भ नहीं करेगी. मेल व एक्सप्रेस ट्रेनें भी रविवार तड़के थम जाएंगी. सभी उप-नगरीय ट्रेन सेवाएं भी बहुत कम कर दी जाएंगी. इंडियन रेलवे वे कोरोना वायरस के चलते गैर-जरूरी यात्रा पर रोक लगाने के मकसद से अबतक 245 ट्रेनें रद्द कर चुका है.