कोरोना वायरस से मिली हैं ये 6 सीख

कोरोना वायरस से मिली हैं ये 6 सीख

एक साल से ज्यादा समय बीतने के बाद भी कोरोना हमारे बीच मौजूद है और इसका गहरा असर हर क्षेत्र पर पड़ा है। अब विशेषज्ञ कोरोना के प्रभावों का अपने-अपने तरीके से विश्लेषण कर रहे हैं। अमेरिकी विशेषज्ञ माइकल जेरसन के मुताबिक, कोरोना से जो हमें सीख मिली है, वह हमारे भविष्य को आकार दे सकती है। उनके अनुसार, कोरोना से मुख्य रूप से हमें 6 तरह की सीख मिली है। आइए जानते हैं उनके  बारे में-

1. प्रकृति हमें मारने निकली है

माइकल जेरसन कहते हैं कि हमें सिर्फ इंद्रधनुष और डूबते सूरज को प्रकृति नहीं समझना चाहिए। यह मनुष्यों और माइक्रोबियल रोगजनकों के बीच क्रूर विकासवादी संघर्ष भी है। हमें नई बीमारियों के लिए तैयार रहना होगा। मुश्किल यह है कि रोगजनक बेहद तेजी से विकसित होते हैं। उदाहरण के रूप में एशेरिकिया कोलाए (Escherichia coli) को लेते हैं। यह एक दिन में ही म्यूटेंट तैयार कर लेता है। जबकि इंसान को विकसित होने में सदियां लगती हैं। शोधकर्ताओं के मुताबिक, हर 4 से 5 साल में एक नया रोगजनक आ जाता है। हालांकि, कोविड-19 सबसे बुरा है, लेकिन हमने हाल में नोवेल इन्फ्लूएंजा का भी सामना किया है, जो काफी घातक है।


2. हम समस्या को और बिगाड़ रहे हैं

75 फीसद नई बीमारियों का मूल जानवर हैं। मनुष्य कई तरह से इस खतरे को बढ़ा रहा है। एक तो प्रोटीन की ज्यादा मांग के चलते कई जानवरों, जैसे सुअर को अब घरेलू स्तर पर पाला जा रहा है। वहीं जंगलों के कटने से मनुष्य और जंगली जानवरों का संपर्क भी अधिक हो गया है, जैसे चमगादड़ बेहद तेजी से संक्रमण फैलाते हैं। वैज्ञानिकों के एक अनुमान के मुताबिक, पिछले कुछ सालों में जानवरों से फैलने वाली 1200 बीमारियां मिली हैं। जबकि 7 लाख ऐसी बीमारियों का अनुमान है, जिनके बारे में हम नहीं जानते हैं।


3. इन खतरों से आइसोलेशन (अलगाव) एक मिथक है

हर रोज विमान दुनिया के एक छोर से दूसरे छोर तक जाते हैं। हमने देखा है कि ब्राजील, दक्षिण अफ्रीका और ब्रिटेन के किसी वायरस को हम तक पहुंचने में वक्त नहीं लगता है। यानी दुनिया के किसी हिस्से में अगर वायरस से जंग ठीक से नहीं लड़ी जाएगी तो यह फिर हम तक पहुंच जाएगा।

4. विकेंद्रीकरण अच्छा राजनीतिक सिद्धांत है, लेकिन खराब स्वास्थ्य नीति है


विशेषज्ञों के मुताबिक, कोरोना से हमें सीख मिली है कि कई बार विकेंद्रीकरण सेहत संबंधी नीतियों के लिए अच्छा नहीं होता है। अमेरिका में 3000 से ज्यादा राज्य, स्थानीय और ट्रिब्यूनल हेल्थ डिपार्टमेंट ने नीतियां बनाईं। पर कई जगहों पर ऐसा लगा कि वायरस के सामने प्रशासन ने सरेंडर कर दिया।

5. लोग परोपकार की भावना से व्यवहार परिवर्तन नहीं करते

कोरोना महामारी में वायरस 70 फीसद 20 से 49 साल के लोगों के जरिए फैला, लेकिन जान गंवाने वाले 80 फीसद लोग 65 साल या इससे ज्यादा के थे। यानी अगर आप 65 साल से ज्यादा के हैं तो बीमारी से जान जाने का खतरा 5.6 फीसद है, लेकिन 20 से 49 साल के लिए लोगों पर यह खतरा केवल 0.092 फीसद है। पर क्या युवाओं ने मास्क पहनकर वायरस फैलने से रोका, तो जवाब है नहीं। यानी सिर्फ सरकार ही है, जो नीतियां बनाकर लोगों से नियम का पालन करा सकती है।


6. हालांकि, हम अगले वायरस के लिए बेहतर तरीके से तैयार हैं, हम बड़े वायरस के लिए तैयार नहीं हैं-

विशेषज्ञों के अगले वायरस से बचने के लिए कई सुझाव दिए हैं-

-जंगलों की कटाई धीमी करनी होगी

-वन्य जीव व्यापार के लिए बेहतर नीतियां बनानी होंगी।

-फैक्ट्री फार्मिंग को भी रेगुलेट करने की जरूरत है।

-जानवरों से मनुष्यों में आने वाले रोगाणुओं का ज्यादा गहराई से अध्ययन किए जाने की जरूरत है।

-जेनेटिक रोगों के एक आनुवंशिक कैटलॉग के निर्माण में तेजी लाई जाए।

-विकासशील देशों में स्वास्थ्य प्रणालियों को मजबूत करने के लिए और अधिक निवेश की जरूरत। 


इंफेक्शन से रहना हो दूर या पेट दर्द की समस्या से चाहिए छुटकारा, हल्दी है इन सबका कारगर इलाज

इंफेक्शन से रहना हो दूर या पेट दर्द की समस्या से चाहिए छुटकारा, हल्दी है इन सबका कारगर इलाज

किचन में मौजूद हल्दी का इस्तेमाल खाने का रंग, स्वाद बढ़ाने के साथ ही खूबसूरती निखारने और यहां तक की सेहत के लिए भी बहुत ही फायदेमंद है। तो खुद को इंफेक्शन से दूर रखने के साथ ही लंबे समय तक बने रहना है सेहतमंद, तो इसका इस्तेमाल जरूर करें।

1. इम्‍यून सिस्‍टम को बनाता है स्ट्रॉन्ग

शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता में इजाफा करती है हल्‍दी। इससे शरीर कई बीमारियों से बचा रहता है। हल्‍दी में पाया जाने वाला लिपोपोलिसेकराईड तत्‍व हमारे इम्‍यून सिस्‍टम को मजबूत बनाकर बीमारियों से हमारी रक्षा करता है। साथ ही इसमें एन्‍टी बैक्‍टीरियल, एंटी वायरल और एंटी फंगल गुण भी विशेष रूप से पाए जाते है।

2. इन्फेक्शन से रखता है दूर

हल्दी में पाया जाने वाले करक्यूमिन नामक तत्‍व के कारण कैथेलिसाइडिन एंटी माइक्रोबियल पेप्टाइड (सीएएमपी) नामक प्रोटीन की मात्रा बढ़ती है। सीएएमपी प्रोटीन शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाता है। यह प्रोटीन बैक्टीरिया और वायरस से लड़ने में शरीर की मदद करता है।

3. पेट की समस्‍याओं से दिलाए राहत

मसाले के रूप में प्रयोग की जाने वाली हल्‍दी का सही मात्रा में प्रयोग पेट में जलन एवं अल्‍सर की समस्‍या को दूर करने में बहुत ही लाभकारी होता है। हल्दी का पीला रंग कुरकमिन नामक अवयव के कारण होता है और यही चिकित्सा में प्रभावी होता है। चिकित्सा क्षेत्र के मुताबिक कुरकमिन पेट की बीमारियों जैसे जलन एवं अल्सर में काफी प्रभावी रहा है।

4. अंदरूनी चोट भरने में लाभदायक

चोट लगने पर हल्‍दी बहुत फायदा करती है। मांसपेशियों में खिंचाव होने पर या अंदरूनी चोट लगने पर हल्‍दी मिला गर्म दूध पीने से दर्द और सूजन में तुरन्‍त राहत मिलती है। चोट पर हल्दी और पानी का लेप लगाने से भी आराम मिलता है।

5. लीवर संबंधी समस्‍याओं में आराम

लीवर की तकलीफों से निजात पाने के लिए हल्‍दी बेहद उपयोगी होती है। यह रक्त दोष दूर करती है। हल्‍दी नेचुरल तौर पर ऐसे एन्‍जाइम्‍स का उत्‍पादन बढ़ाती है जिससे लीवर से विषैले पदार्थों को बाहर निकालने में मदद मिलती है।


CM योगी ने यूपी में 10 नए ऑक्सीजन प्लांट लगाने का निर्देश दिया, 6 करोड़ से ज्यादा खर्च होंगे       यूपी: साप्ताहिक बंदी के दौरान इन उद्योगों को सरकार ने दी राहत, पहले से तय शादियों में भी शर्तों के साथ छूट       HC के चीफ जस्टिस गोविंद माथुर ने की CM योगी की तारीफ, कहा...       उत्तर प्रदेश में कोरोना का कहर, बीते 24 घंटे में 120 की मौत, 27357 नए संक्रमित       विटामिन सी से भरपूर चीजों को करें डाइट में शामिल और रहें इंफेक्शन से दूर       इंफेक्शन से रहना हो दूर या पेट दर्द की समस्या से चाहिए छुटकारा, हल्दी है इन सबका कारगर इलाज       अच्छे खानपान के साथ इन चीजों का भी रखेंगे ध्यान तो बने रहेंगे लंबे समय तक हेल्दी       घर पर आसानी से बनाएं ये 5 अलग-अलग किस्म की चाय       कोरोना वायरस में हल्के, मामूली और गंभीर लक्षणों को कैसे पहचानें?       किसी भी उम्र में हो सकता है डायबिटीज, जानें इसकी वजहें, लक्षण, बचाव व उपचार       वैज्ञानिक ने की पुष्टि, सूंघने और स्वाद के भाव का खोना है COVID-19 का शुरुआती लक्षण       इन चीजों के सेवन से शरीर में नहीं होगी पानी की कमी, दूर रहेंगी बीमारियां       अस्थमा के मरीज कोरोना वायरस से बचने के लिए ये टिप्स अपनाएं       कहीं आप भी तो नहीं कर रहे मास्क पहनने में ये 5 ग़लतियां?       बढ़ते वजन से हैं परेशान तो ब्रेकफास्ट में इन चीजों को जरूर जोड़ें       एक्सपर्ट से जानें क्या होता है पैनिक डिसऑर्डर, इसके लक्षण बचाव एवं उपचार के बारे में       लगातार मास्क पहनने से त्वचा में होने वाली परेशानियों को ऐसे करें दूर       इस तरह बनाएं अपना डाइट प्लान, आपका वजन भी रहेगा कंट्रोल       पुरानी बीमारियों से छुटकारा के लिए ड्रैगन फ्रूट खाएं, इसके ये हैं फायदे       'शांति' बन घर-घर में मशहूर हुई थीं मंदिरा बेदी, अपनी प्रेग्नेंसी की वजह से हमेशा रहीं चर्चा में