Volkswagen T-Roc की बुकिंग शुरू, जानिये कब से मिलेगी डिलीवरी

Volkswagen T-Roc की बुकिंग शुरू, जानिये कब से मिलेगी डिलीवरी

जर्मन वाहन निर्माता कंपनी की फॉक्सवैगन इस साल भारत में अपनी कई कारें पेश करेगा। इनमें कंपनी की पॉपुलर कार फॉक्सवैगन T-Roc का नाम भी शामिल है। कंपनी ने इसे इसी साल लांच किया है। जिसके बाद इसकी बुकिंग भी शुरू कर दी गई है। अब कंपनी की तरफ से कंफर्म कर दिया गया है कि इस एसयूवी को बुक करने वाले ग्राहकों को कार की डिलीवरी 21 मई 2021 से मिलना शुरु हो जाएगी। जर्मनी की प्रमुख वाहन निर्माता कंपनी ने भारत में इसे 21.35 लाख रुपये के एक्स-शोरूम कीमत पर पेश किया है।

कंपनी ने भारतीय बाजार के लिए एक अग्रेसिव प्रीमियम एसयूवी-आधारित रणनीति को बनाया है। इस रणनीति के एक हिस्से के तहत, जर्मन वाहन निर्माता कंपनी भारत में चार नई एसयूवी लॉन्च करने की तैयारी कर रही है। फॉक्सवैगन की यह T-ROC भारत में लांच करने के लिए बनाई गई योजना की चार एसयूवी में से एक है और इस एयूवी को मार्च 2021 में लॉन्च किया गया था।


जर्मन वाहन निर्माता की एसयूवी T-Roc के फ्रंट में, LED DRLs, LED कॉर्नरिंग लाइट्स और फॉग लैंप्स के साथ LED प्रोजेक्टर हैडलैंप्स दिए गए हैं। इसके अलावा एसयूवी में 17 इंच के एलॉय व्हील्स दिये गए हैं। इसके अलावा कार के इंटीरियर में 8 इंच का टचस्क्रीन इंफोटेनमेंट सिस्टम दिया गया है और जोकि एंड्रॉयड ऑटो और ऐप्पल कार प्ले के सपोर्ट के साथ आता है। अन्य बाहरी विशेषताओं में छत पर लगे स्पॉइलर, फॉक्स स्किड प्लेट्स आदि शामिल हैं, ग्राहक जल्द ही अपनी इस पसंदीदा एसयूवी की डिलीवरी ले सकेंगे।


इंजन : नई 2021 फॉक्सवैगन T-Roc एक इंजन विकल्प और एक गियरबॉक्स ऑप्शन के साथ उपलब्ध है। एसयूवी में 1.5-लीटर का TSI टर्बो-पेट्रोल इंजन दिया गया है जो अधिकतम 148bhp का पावर आउटपुट और 248Nm का पीक टॉर्क जनरेट करने में सक्षम है। इसे डिफ़ॉल्ट रूप से 7-स्पीड DSG गियरबॉक्स में रखा गया है। यह 8.4 सेकंड में 0-100 किमी / घंटा की रफ्तार पकड़ सकती है और इसकी टॉप स्पीड 205 किमी / घंटा की है।


RTO में बगैर टेस्‍ट दिए भी बन सकेगा ड्राइविंग लाइसेंस, जानें कैसे?

RTO में बगैर टेस्‍ट दिए भी बन सकेगा ड्राइविंग लाइसेंस, जानें कैसे?

नई दिल्‍ली यदि आप ड्राइविंग लाइसेंस (Driving License) बनवाने की सोच रहे हैं, लेकिन आरटीओ (RTO) में होने वाले ड्राइविंग टेस्‍ट से बचना चाह रहे हैं तो आपके लिए राहत देने वाली समाचार है जल्‍द ही आरटीओ में बगैर ड्राइविंग टेस्‍ट के ही लोग ड्राइविंग लाइसेंस बनवा सकेंगे इसके लिए सड़क परिवहन मंत्रालय (Ministry of Road Transport) से मान्‍यता प्राप्‍त ड्राइविंग टेस्‍ट सेंटर से ट्रेनिंग लेनी होगी, जिसके बाद सेंटर से एक सर्टिफिकेट मिलेगा इसके आधार पर ड्राइविंग लाइसेंस बनवाते समय टेस्‍ट देने की आवश्यकता नहीं पड़ेगी यह मान्‍यता प्राप्‍त टेनिंग सेंटर 1 जुलाई 2021 से प्रारम्भ हो जाएंगे सड़क परिवहन मंत्रालय ने इस विषय में आदेश जारी कर दिए हैं

सड़क परिवहन मंत्रालय के अनुसार, प्रति साल देश में होने वाले हादसों का एक कारण ट्रेंड ड्राइवरों की कमी होना है मंत्रालय के मुताबिक मौजूदा समय देश में करीब 22 लाख ड्राइवरों की कमी है इस कमी को पूरा करने और सड़क हादसों को कम करने के लिए सड़क एवं परिवहन मंत्रालय ने तय गाइडलाइन के मुताबिक देशभर में ड्राइवर टेनिंग सेंटर खोलने की अनुमति दे दी है लोग मंत्रालय के मानक के मुताबिक सेंटर खोल सकते हैं, जिसमें लोगों को ट्रेनिंग दी सकेगी ट्रेनिंग के बाद टेस्‍ट लिया जाएगा टेस्‍ट पास करने वालों को सेंटर सर्टिफिकेट देगा, जिसके आधार पर बगैर टेस्‍ट दिए ड्राइविंग लाइसेंस बन सकेगा

ड्राइवर ट्रेनिंग सेंटर के लिए शर्तें
ट्रेनिंग सेंटर के लिए मैदानी इलाके में दो एकड़ और पहाड़ी इलाके में एक एकड़ जमीन की आश्‍वयकता होगी एलएमवी और एचएमवी दोनों तरह के वाहनों के लिए सिम्‍युलेटर जरूरी होगा, जिससे ट्रेनिंग दी जाएगी यहां पर बायोमीट्रिक अटेंडेंस और इंटरनेट के लिए ब्रॉडबैंड कनेक्टिविटी महत्वपूर्ण होगी सेंटर में पार्किंग, रिवर्स ड्राइविंग, ढलान, ड्राइविंग आदि ट्रेनिंग देने के लिए ड्राइविंग ट्रैक जरूरी होगा इसमें थ्‍योरी और सेंगमेंट कोर्स होंगे सेंटर में सिम्‍युलेटर की सहायता से हाईवे, ग्रामीण इलाके, भीड़भाड़ और लेन में चलने वाली जगहों पर बरसात, कोहरा और रात में वाहन चलाने की ट्रेनिंग दी जाएगी