गूगर प्ले स्टोर पर टिकटॉक ऐप की रेटिंग 1.2 स्टार से बढ़कर पहुंच गई 4.4 स्टार्स

गूगर प्ले स्टोर पर टिकटॉक ऐप की रेटिंग 1.2 स्टार से बढ़कर पहुंच गई 4.4 स्टार्स

एसिड अटैक वीडियो कंट्रोवर्सी व टिकटॉर्स-यूट्यूबर्स के बीच छीड़ी जंग के बाद टिकटॉक की रेटिंग पिछले सप्ताह बहुत ज्यादा तेज़ी से नीचे गिरी. लेकिन अब उतनी ही तेज़ी से रेटिंग में सुधार भी देखा जा रहा है.

गूगर प्ले स्टोर पर टिकटॉक ऐप की रेटिंग 1.2 स्टार से बढ़कर अब एक बार फिर 4.4 स्टार्स पर पहुंच गई है. रेटिंग में आकस्मित आए सुधार के पीछे गूगल का हाथ है. गूगल ने गूगल प्ले स्टोर पर अपनी पोस्टिंग गाइडलाइंस को मद्देनज़र रखते हुए लाखों 1 स्टार रेटिंग वाले रिव्यू को हटाया है, गाइडलाइन्स स्पष्ट रूप से निगेटिव रिव्यू को हटाने की अनुमति देती है.

वर्तमान व 7 दिन पहले की रेटिंग में लगभग 80 लाख रेटिंग का अंतर- गूगल

गूगल के प्रवक्ता ने बोला कि कंपनी स्पैम अब्यूज़ के मुद्दे में अनुचित रेटिंग्स व कमेंट्स को हटाने का कदम उठाती है. प्रवक्ता ने बोला कि प्ले स्टोर रेटिंग यूज़र्स को ऐप्स व कॉन्टेंट से संबंधित फीडबैक और उनके अनुभव प्रदान करने में मदद करता है. ताकि दूसरे यूज़र्स उस आधार पर अपने फैसला ले सकें.
अगर हम टिकटॉक ऐप की वैसे वाली रेटिंग व 7 दिन पहले की रेटिंग देखें, तो इसमें लगभग 80 लाख रेटिंग का अंतर देखा जा सकता है. गूगल प्ले के वेब वर्ज़न ग्राफ को भी देखे, तो मालूम चलेगा कि एक सप्ताह पहले 1 स्टार रेटिंग में जबरदस्त उछाल हुआ था. लेकिन अब उन रेटिंग में से ज्यादातर को हटा दिया गया है.
गूगल प्ले की कमेंट पोस्टिंग पॉलिसी गाइडलाइन को देखें, तो यूज़र्स को किसी ऐप की रेटिंग में परिवर्तन करने की अनुमति नहीं है. यही कारण है कि गूगल ने टिकटॉक का पक्ष लेते हुए इस तरह के नेटेगिव रिव्यू रेटिंग को हटा दिया.
हालांकि, दूसरी तरफ आईओएस के लिए एपल प्ले स्टोर पर टिकटॉक की रेटिंग में कुछ ज्यादा परिवर्तन इन 7 दिनों में नहीं देखा गया. पिछले सप्ताह इस ऐप की ऐप स्टोर की रेटिंग एवरेज 3.5 स्टार थी, जो कि घटकर महज 3.4 स्टार ही हुई थी. एपल ने ऐप स्टोर से टिकटॉक की कोई रेटिंग नहीं हटाई, क्योंकि यहां पिछले सप्ताह से 11 लाख से 12 लाख हो गए हैं. इससे प्रतीत होता है कि आईफोन यूज़र्स टिकटॉक के विरूद्ध इस जंग का भाग नहीं है.

टिकटॉक की रेटिंग गिरने के पीछे ये तीन प्रमुख कारण
सबसे पहला कारण है एंटी-चाइना वाली भावना, जो कि कोविड-19 महामारी फैलने के बाद से अधिक बढ़ गई है. वहीं, फैज़ल सिद्दिकी के वीडियो के बाद टिकटॉक के विरूद्ध उठी चिंगारी ने आग का रूप ले लिया. फैज़ल सिद्दिकी ने एक टिकटॉक वीडियो बनाया था, जिसमें वह एक लड़की पर पानी फेंकते दिखे थे, पानी फेंकते ही वीडियो में वो लड़की अलग से मेकअप में नज़र आ रही है, जो कि एसिड अटैक होने के बाद से निशानों का संकेत दे रहे हैं. जिसके बाद ही लोगों ने इसे सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया व एसिड अटैक जैसे संगीन जुर्म को प्रमोट करने के आरोप में टिकटॉक ऐप को बैन करवाने की मांग करने लगे व सोशल मीडिया पर #IndiansAgainstTikTok जैसे हैशटैग ट्रेंड करने लगे.. तीसरा कारण कैरी मिनाटी का वीडियो "यूट्यूब vs टिकटॉक - द एंड", जिसमें उन्होंने खासतौर पर आमिर सिद्दिकी व अन्य टिकटॉकर्स को जमकर रोस्ट किया था. कैरी मिनाटी के फॉलोअर्स इसके बाद से ही टिकटॉक ऐप को 1-स्टार रेटिंग देने लगे थे.