नकली दूध पकड़ने के लिए डेयरी संचालकों पर हुई सख्ती

नकली दूध पकड़ने के लिए डेयरी संचालकों पर  हुई सख्ती

खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन (एफएसडीए) ने मिलावटी-नकली दूध पकड़ने के लिए डेयरी संचालकों पर सख्ती की है. इनको लाइसेंसधारी दूधिया से ही दूध खरीदने के आदेश दिए हैं. टीम बिना लाइसेंस के दूध बिक्री करने वालों के विरूद्ध अगले हफ्ते से अभियान प्रारम्भ कर रही है.

जिले में 12.80 लाख लीटर दूध की आवश्यकता है, जबकि पूर्ति 11.75 लाख लीटर दूध की ही हो पा रही है. बाकी का दूध मिलावटी व नकली मिल रहा है. एफएसडीए ने खेरागढ़ में नकली दूध बनाने का प्लांट भी पकड़ा था. ऐसे में एफएसडीए ने डेयरी व चिलर प्लांट को लाइसेंसधारी दूधियों से ही दूध खरीदने का आदेश दिया है. दूधियों को भी अपना लाइसेंस कराने के लिए बोला है.

जिला अभिहित ऑफिसर मनोज वर्मा ने बताया कि लाइसेंसधारी दूधिया से दूध लेने पर इसका रिकार्ड रहेगा, अगर मिलावटी व नकली दूध पकड़ा जाता है, तो उससे दूधिया भी चिह्नित किए जा सकेंगे. दूधियों के विरूद्ध अगले हफ्ते से अभियान चलाएंगे, इस दौरान जिनका लाइसेंस नहीं है, वह विभाग से प्राप्त कर सकते हैं.
 

शुल्क जमा कर जान सकेंगे फूड सेफ्टी 
एफएसडीए के फूड सेफ्टी अभियान में नकली-मिलावटी सामग्री की पहचान का भी उद्यमियों को प्रशिक्षण दिया जा रहा है. छोटे उद्यमियों को 200 रुपये व बड़े उद्यमियों को 708 रुपये जमा करने होंगे.

इसमें खाद्य सामग्री से जुड़े किसी भी उद्योग का विशेषज्ञ प्रोजेक्टर के जरिये जानकारी देगा. मुख्य खाद्य सुरक्षा ऑफिसर राम आशीष मौर्य ने बताया कि मीट, डेयरी, होटल-रेस्टोरेंट, मिष्ठान भंडार समेत अन्य खाद्य सामग्री से जुड़ा उद्यमी इसका फायदा ले सकता है.

18001805533 पर करें शिकायत
एफएसडीए ने लोगों से भी लाइसेंसधारक दूधिया से दूध लेने की अपील की है. मिश्रण व नकली की संभावना पर लोग एफएसडीए में टोल फ्री नंबर 18001805533 पर सोमवार से शुक्रवार तक प्रातः काल दस से शाम छह बजे तक शिकायत कर सकते हैं. टीम दूध का नमूना लेकर जाँच कराएगी. 

दूध के सबसे ज्यादा नमूने फेल, फिर भी सैंपल लेना बंद
एफएसडीए की जाँच में दूध के सबसे ज्यादा नमूने फेल हुए हैं. पिछले वर्ष डेयरी, दूधिया व चिलर प्लांट से 246 नमूने लिए, इसमें 119 फेल हुए. नकली दूध भी मिला.

पिछले महीने 30 जनवरी को खेरागढ़ में नकली दूध का प्लांट पकड़ा था. लेकिन इसके बाद से टीम दूध के नमूने लेने नहीं गई है. इस पर जिला अभिहित ऑफिसर मनोज वर्मा बोलना था कि दूध के नमूने लेने के लिए टीम को निर्देशित किया है, अब से लगातार अभियान चलेगा.