Indian Railways ने बदला 32 ट्रेनों का शिड्यूल

Indian Railways ने बदला 32 ट्रेनों का शिड्यूल

Indian Railways ने 4 अगस्‍त 2021 को 32 ट्रेनों का रूट बदला है या फिर उन्‍हें Partially Cancel कर दिया है। इनमें 02443 DEE JU SF EXP SPL, 04699 PTK-JDNX EXPSPL, 05669 GHY-DBRT EXPRESS SPECIAL, 06551 SBC-JTJ MEMU, 08428 PURI-ANGL EXP SPECIAL शामिल हैं, जिन्‍हें Cancel किया गया है। इनके अलावा 02206 RMM-MS SF SPL, 02401 NANDA DEVI EXP, 04700 BJPL-PTK EXPSPL, 05240 SHC-PRNA DEMU PASS. SPL, 06552 JTJ-SBC MEMU के सोर्स स्‍टेशन को बदल दिया गया है।

यही नहीं रेलवे ने पंजाब और हरियाणा के यात्रियों के लिए और ट्रेनें चलाने का फैसला किया है। इसके तहत होशियारपुर के लिए विशेष ट्रेन चलेगी। साथ ही सिरसा के लिए रिजर्व ट्रेन चलेगी। यह Special ट्रेन Old Delhi Station से 7 जुलाई से रोजाना शाम पांच बजे चलेगी जबकि उसी दिन रात 10.40 बजे होशियारपुर पहुंचेगी। वापसी में 8 जुलाई से होशियारपुर से सुबह 05.15 बजे रवाना होकर उसी दिन सुबह 10.15 बजे Old delhi Station पहुंचेगी। रास्ते में यह दिल्ली, किशनगंज, विवेकानंदपुरी समेत कई स्टे‍शनों पर ठहरेगी।

एक और अच्‍छी खबर यह है कि भारत और बांग्लादेश के बीच मालगाड़ियों का 56 साल बाद चिलाहाटी-हल्दीबाड़ी रूट पर ऑपरेशन शुरू हो गया है। इस रेल लिंक को भारत और बांग्लादेश के बीच 5वें रेल लिंक के तौर पर फिर से शुरू किया गया था। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (PM Narendra Modi) बीते मार्च में बांग्लादेश की आजादी की स्वर्ण जयंती, राष्ट्रपिता बंगबंधु शेख मुजीबुर रहमान की जन्मशती के मौके पर शामिल हुए थे। पीएम मोदी के बांग्लादेश की राजकीय यात्रा के दौरान बांग्लादेशी प्रधानमंत्री शेख हसीना ने दोनों पड़ोसी देशों के बीच 1965 से पहले के सभी रेल संपर्क बहाल करने का वादा किया था।


शेख हसीना और PM मोदी ने संयुक्त रूप से 17 दिसंबर, 2020 को पीएम स्तर के वर्चुअल द्विपक्षीय शिखर सम्मेलन के दौरान चिल्हाटी (बांग्लादेश)-हल्दीबाड़ी (भारत) रेल लिंक का उद्घाटन किया था। उन्होंने ढाका से न्यू जलपाईगुड़ी तक मिताली एक्सप्रेस ट्रेन का संयुक्त रूप से उद्घाटन भी किया था। हालांकि, कोविड -19 महामारी के कारण, इसके संचालन को कुछ समय के लिए टाल दिया गया था।


प्रधानमंत्री मोदी के अभियान सौभाग्य योजना के तहत 2.82 करोड़ परिवारों को मिला बिजली कनेक्शन

प्रधानमंत्री मोदी के अभियान सौभाग्य योजना के तहत 2.82 करोड़ परिवारों को मिला बिजली कनेक्शन

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के द्वारा शुरू किए गए अभियान, सौभाग्य योजना के तहत अब तक 2.82 करोड़ परिवारों को बिजली का कनेक्शन हासिल हो चुका है। बिजली मंत्रालय ने शनिवार को यह जानकारी उपलब्ध कराई है। सौभाग्य योजना के चार साल पूरे होने पर एक बयान जारी करते हुए बिजली मंत्रालय ने यह कहा है कि, "इस योजना के शुरू होने के बाद से, इस साल 31 मार्च तक, 2.82 करोड़ घरों में बिजली का कनेक्शन दिया जा चुका है। मार्च 2019 तक, देश के ग्रामीण और शहरी दोनों इलाकों में 2.63 करोड़ घरों को 18 महीने के रिकॉर्ड समय में बिजली का कनेक्शन प्रदान किया गया था।"

"इसके बाद, सात राज्यों असम, छत्तीसगढ़, झारखंड, कर्नाटक, मणिपुर, राजस्थान और उत्तर प्रदेश राज्यों में, 31 मार्च, 2019 से पहले चिन्हित किए गए लगभग 18.85 लाख बिना बिजली कनेक्शन वाले घर, जो पहले कनेक्शन नहीं लेना चाहते थे, लेकिन बाद में उन्होंने बिजली कनेक्शन प्राप्त करने की इच्छा जाहिर की थी। इस तरह के घर भी इस योजना के तहत शामिल थे।"

क्या है सौभाग्य योजना

सौभाग्य योजना की घोषणा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 25 सितंबर, 2017 को की थी और यह दुनिया के सबसे बड़े घरेलू विद्युतीकरण अभियानों में से एक है। इस योजना का उद्देश्य अंतिम छोर तक कनेक्टिविटी के जरिए देश में 'सार्वभौमिक घरेलू विद्युतीकरण' प्राप्त करना है। इसके साथ ही, ग्रामीण क्षेत्रों के उन सभी घरों और क्षेत्रों में बिजली कनेक्शन देना है, जिन घरों और शहरी क्षेत्रों में गरीब परिवारों तक बिजली कनेक्शन नहीं पहुंचा है।


इस योजना की शुरुआत करते हुए, प्रधानमंत्री ने "नए युग के भारत" में बिजली कनेक्शन प्रदान करने और इक्विटी, दक्षता और स्थिरता की दिशा में काम करने का संकल्प लिया था। इस योजना के तहत कुल बजट 16,320 करोड़ रुपये का था, जबकि सकल बजटीय सहायता (जीबीएस) 12,320 करोड़ रुपये की थी।