कोविड-19 : इस वर्ष एयरलाइन पैसेंजर रेवेन्यू में इतने प्रतिशत की आएगी कमी

कोविड-19 : इस वर्ष एयरलाइन पैसेंजर रेवेन्यू में इतने प्रतिशत की आएगी कमी

कोविड-19 की वजह से इस वर्ष एयरलाइन पैसेंजर रेवेन्यू में 55% यानी 314 अरब डॉलर (23.55 लाख करोड़ रुपए) की कमी आएगी. इंटरनेशनल एयर ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन (आईएटीए) ने यह अनुमान जारी किया है. तीन सप्ताह पहले यह अनुमान 44% यानी 252 अरब डॉलर (18.90 लाख करोड़ रुपए) की कमी का था.


मदद मिले बिना कई एयरलाइंस का टिकना मुश्किल
आईएटीए के सीईओ एलेक्जेंड्रे डे जुनिस का बोलना है कि हर दिन गुरजने के साथ उम्मीदें घट रही हैं. जल्द रिकवरी भी कठिन लग रही है. घरेलू बाजार में रिकवरी धीमी होगी लेकिन, इंटरनेशनल बाजार के मुकाबले जल्द सुधार दिखेगा. तुरंत मदद मिले बिना कई एयरलाइंस का टिक पाना कठिन हो जाएगा.
जनवरी से प्रारम्भ हुआ एविएशन सेक्टर का संकट
अप्रैल में दुनियाभर में उड़ानों की संख्या पिछले वर्ष के इसी महीने के मुकाबले 80% कम रही. एविएशन सेक्टर का संकट जनवरी के आखिर में प्रारम्भ हुआ था, जब दुनियाभर की एयरलाइंस ने चाइना के लिए उड़ानें बंद कर दी थीं. आईएटीए तब से लगातार रेवेन्यू के नुकसान का अनुमान लगा रहा है.
एविएशन सेक्टर के लिए सरकारों से बात की जाएगी
आईएटीए के ताजा अनुमान में इंटरनेशनल ट्रैवल पर उम्मीद से ज्यादा अवधि के प्रतिबंधों व कोविड-19 के अफ्रीका व दक्षिण अमेरिका में फैलने को ध्यान में रखा गया है. आईएटीए के सीईओ का बोलना है कि आने वाले दिनों में दुनियाभर की सरकारों के साथ मुलाकातों का सिलसिला प्रारम्भ किया जाएगा ताकि एविएशन सेक्टर को फिर से प्रारम्भ करने की योजना पर चर्चा की जा सके. इसके लिए यात्रियों के स्वास्थ्य का ध्यान रखना अहमियत होगी. आईएटीए एयरलाइंस के लिए आर्थिक राहत देने की मांग कर रहा है.