सांठ-गांठ कर सीमेंट और स्टील कंपनियां लगातार ज्यादा रख रही हैं कीमतें, जांच के घेरे में कंपनियाँ

सांठ-गांठ कर सीमेंट और स्टील कंपनियां लगातार ज्यादा रख रही हैं कीमतें,  जांच के घेरे में कंपनियाँ

सीमेंट और स्टील की कीमतों में पिछले 1 साल में आई तेजी ने अब सरकार की भी आंखें खोल दी हैं। ऐसा माना जा रहा है कि एक गिरोह बना कर यानी सांठ-गांठ कर सीमेंट और स्टील की कीमतें बढ़ाई गई हैं। इसका सीधा असर घरों पर और अन्य सेक्टर्स पर पड़ता है। इसकी कीमत आम लोगों को चुकानी होती है।

रेगुलेटर बनाने की योजना

दो दिन पहले ही केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने बिल्डर एसोसिएशन के साथ एक मीटिंग में इन सेक्टर्स के लिए रेगुलेटर बनाने की वकालत कर डाली। रेगुलेटर की जरूरत इसीलिए हुई क्योंकि सीमेंट और स्टील की कीमतों को लेकर कोई सीमा तय नहीं की गई है। उन्होंने कहा कि बड़ी कंपनियां दाम बढ़ाने के लिए आपसी साठ-गांठ के तहत काम कर रही हैं।

सांठ- गांठ का आरोप

गडकरी ने बिल्डर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया (BAI) के एक कार्यक्रम में कहा कि जहां तक स्टील और सीमेंट की बात है यह हम सभी के लिए बड़ी समस्या है। मेरा मानना है कि यह स्टील और सीमेंट सेक्टर के कुछ बड़े लोगों का किया धरा है, जो कि साठगांठ के जरिए यह कर रहे हैं।

दिसंबर में सीसीआई ने की थी जांच

बता दें कि दिसंबर में ही एसीसी और अंबुजा सीमेंट सहित अन्य सीमेंट कंपनियों के खिलाफ भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग (CCI) ने सांठ-गांठ की जांच की थी। एसीसी ने कहा कि उसने प्रतिस्पर्धा कानूनों का पालन करने के लिए लगातार कार्रवाई की है और कंपनी जांच में पूरी तरह सहयोग कर रही है। इससे पहले भी सीमेंट कंपनियों पर कई बार इसी तरह के मामले में कार्रवाई की जा चुकी है।

सीमेंट की कीमतें 312 रुपए प्रति बोरी

कीमतों की बात करें तो पिछले साल जनवरी से लेकर अब तक सीमेंट की कीमतें उसी स्तर पर हैं। यानी 312-314 रुपए प्रति बोरी बिक रही हैं। यह जनवरी 2020 में भी इसी कीमत पर बिक रही थी। यहां तक कि कोरोना में जब सब कुछ बंद था, कोई मांग सीमेंट की नहीं थी, तब भी कंपनियों ने कीमतों को पहले के ही स्तर पर बनाए रखा था। हालांकि स्टील की कीमतें काफी बढ़ी हैं। स्टील की कीमतें जनवरी 2020 में 44 हजार रुपए प्रति टन थी जो अब 56 से 58 हजार रुपए प्रति टन है।

स्टील की कीमतें 35 हजार से 56 हजार पर पहुंचीं

स्टील की कीमतें हालांकि मार्च से जून के दौरान 35 हजार रुपए तक चली गई थी, फिर जैसे ही थोड़ी मांग बढ़ी, इनकी कीमतें 50% तक बढ़ गई हैं। वैसे स्टील की कीमतों में बढ़त का जो कारण बताया जा रहा है वह यह कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर इसकी कीमतें बढ़ रही हैं। चीन में यह 740 डॉलर प्रति टन है। पहले यह 350 डॉलर प्रति टन थी। स्टील की कीमतें इसलिए भी बढ़ रही हैं क्योंकि खपत बढ़ गई है। कंस्ट्रक्शन शुरू हो गया है। चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में खपत में 35% की कमी आई थी। जबकि तीसरी तिमाही में इसमें महज 5% की कमी आई है।

सीमेंट की कीमतें 10 सालों से एक ही स्तर पर

सीमेंट की कीमतों की बात करें तो यह पिछले 10 सालों से एक ही कीमत पर है। औसत कीमत इसकी केवल 2% बढ़ी है। स्टील की कीमतों के बढ़ने का असर कंपनियों के रिजल्ट पर भी दिखा है। JSW स्टील का पहली तिमाही में 146 करोड़ रुपए का शुद्ध घाटा था। दूसरी तिमाही में इसे 1,692 करोड़ रुपए का फायदा हुआ था। स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया (SAIL) का कर्ज दिसंबर 2020 में 44,308 करोड़ रुपए रहा है। इससे पहले 50 हजार 638 करोड़ रुपए का कर्ज था। टाटा स्टील ने तीन तिमाहियों तक लगातार घाटे के बाद दूसरी तिमाही में 1,665 करोड़ रुपए का फायदा कमाया है।


जीएसटी फर्जी बिल धोखाधड़ी में ढाई महीने में आठ सीए समेत 258 लोग गिरफ्तार

जीएसटी फर्जी बिल धोखाधड़ी में ढाई महीने में आठ सीए समेत 258 लोग गिरफ्तार

देशभर में फर्जी जीएसटी बिलों के जरिये धोखाधड़ी करने वालों के खिलाफ कार्रवाई में बीते ढाई महीने में आठ चार्टर्ड अकाउंटेंट (सीए) समेत 258 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। जीएसटी इंटेलीजेंस महानिदेशालय (डीजीजीआई) के सूत्रों के मुताबिक, आठवें सीए को शनिवार को जयपुर में उसके चार कारोबारी साथियों के साथ गिरफ्तार किया गया। ये लोग 25 फर्जी कंपनियों के जरिये बोगस चालान से इनपुट टैक्स क्रेडिट (आईटीसी) का लाभ लेते थे।

डीजीजीआई ने 2500 से ज्यादा केस दर्ज किए, 820 करोड़ रुपये की रिकवरी की 
सूत्रों ने बताया, अब तक गिरफ्तार लोगों में से दो के खिलाफ विदेशी मुद्रा संरक्षण व तस्करी गतिविधि रोकथाम अधिनियम के तहत केस दर्ज किया गया है। डीजीजीआई द्वारा चलाए गए अभियान में अब तक आठ हजार फर्जी जीएसटीएन कंपनियों के खिलाफ 2500 केस दर्ज किए गए हैं।

अथॉरिटी ने इन जालसाजों से 820 करोड़ रुपये की रिकवरी की है। वहीं, भारतीय चार्टर्ड अकाउंटेंट संस्थान को सीए की गिरफ्तारी की सूचना दी जा चुकी है और उनसे उनके अनुसार कार्रवाई करने को कहा गया है।

मुंबई से दो सीए गिरफ्तार 
गिरफ्तार किए गए आठ सीए में से दो मुंबई के हैं। डीजीजीआई ने जयपुर से सीए बीएस गुप्ता, मुंबई से सीए दौलत एस मेहता और सीए चंद्रप्रकाश पांडे, अहमदाबाद से सीए ललित प्रजापति, चेन्नई से सीए एस कृष्णकुमार, दिल्ली से सीए नितिन जैन, हैदराबाद से सीए श्रीनिवास राव और लुधियाना से सीए अंकुर गर्ग को गिरफ्तार किया है।


इस दिन भूलकर भी न खरीदें ये चीजें, घर में रहेगी पैसे की दिक्कत       इस दिन करें ये उपाय, घर में सुख- समृद्धि और यश बना रहेगा       वास्तुशास्त्र के अनुसार इस दिशा में बैठकर भोजन करना है लाभदायक       11 या 26 व्रत हो चुके हैं पूरे तो कल करें उद्यापन, जानें विधि       महिलाओं को नहीं करने चाहिए ये काम, शास्त्रों में है मनाही       घर में बरकत नहीं होने देती टूटी चप्पल       सोशल मीडिया पर इस मासूम लड़की ने पढ़ाया जीवन का ऐसा ‘पाठ’, लोगे बोले...       गणतंत्र दिवस पर किसने दी दिल्ली में बिजली काटने की धमकी       वरुण-नताशा ने गेस्ट के साथ की जमकर मस्ती, यहां देखें अनदेखी तस्वीरें       बंद हो रहा है कपिल शर्मा का शो, फैंस के लिए बड़ा झटका!       Bigg Boss 14 : घर से बाहर आने के बाद सोनाली फोगाट के साथ डेट पर जाएंगे अली       शादी पर वरुण को खास गिफ्ट देने वेडिंग वेन्यू पर गया था जबरा फैन       फैंस हुए वरुण और नताशा की जोड़ी के दीवाने, कहा- इसे कहते हैं सच्चा प्यार       कोरोना पर वैज्ञानिक की चेतावनी, लगातार रूप बदल रहा वायरस       ममता बनर्जी के घर के पास बिखरे नोट बटोरने के लिए पहुंचे सैकड़ों लोग       पाकिस्तान कंगाल, पाई-पाई को हुआ मोहताज       LAC पर भारत-चीन में बढ़ी टेंशन, ठंड के बाद बढ़ेगी झड़प       ट्रक ड्राइवर के पीछे बैठा था जहरीला सांप, फुफकार सुन पलटा       ऐसा पहला राज्य बना यूपी, पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे पर तैयार हो रही एयरस्ट्रिप       ATM बना कुबेर खजाना, नोटों की बारिश बटन दबाते ही, लूटम-लूट मच गई