विकासोन्मुख हो बजट, नौकरियों के सृजन और रोजगार के लिए अर्थव्यवस्था में भारी निवेश की जरूरत

विकासोन्मुख हो बजट, नौकरियों के सृजन और रोजगार के लिए अर्थव्यवस्था में भारी निवेश की जरूरत

भारत ने आंकड़ों के हिसाब से भी अब तक के सबसे कमजोर वित्त वर्ष का सामना किया है, जो कोविड-19 महामारी से बुरी तरह प्रभावित रहा है। महामारी के शुरुआती महीनों से जून तक आर्थ‍िक गतिविधि‍यों में भारी गिरावट आई, इसके बाद सितंबर के बाद धीरे-धीरे इसमें सुधार हुआ। भारत इस मामले में सौभाग्यशाली रहा है कि यहां अन्य यूरोपीय देशों और कुछ पूर्वी एशियाई देशों की तरह कोरोना की दूसरी लहर नहीं आई है।

वित्त वर्ष 2021 की रियल जीडीपी में 7 से 8.5 फीसद तक की गिरावट आने का अनुमान है, जो भारत के इतिहास में सबसे कम जीडीपी रेट होगा। एक अनुकूल आधार प्रभाव और आर्थ‍िक गतिविधि‍यों के फिर से पटरी पर लौटने को देखते हुए अगले वर्ष में रियल जीडीपी 8-9 फीसदी और नॉमिनल जीडीपी 12.5-13.5 फीसदी तक बढ़ने की उम्मीद है। आर्थ‍िक गतिविधि‍यों के पटरी पर लौटने के बावजूद कई ऐसे सेक्टर हैं, खासकर सेवाओं में, जो अब भी बुरी तरह प्रभावित हैं। इनमें हॉस्पिटलिटी, टूरिज्म, रेस्टोरेंट, एंटरटेनमेंट और एविएशन शामिल हैं।

बजट से हमारी प्राथमिक उम्मीद यही है कि यह विकासोन्मुख हों। नौकरियों के सृजन और रोजगार के लिए अर्थव्यवस्था में भारी निवेश की जरूरत है। निवेश का चक्र तो वास्तव में महामारी से पहले ही मंदा हो गया था, लेकिन अब उसमें कुछ अच्छे संकेत दिख रहे हैं, क्योंकि पिछले दो साल से दबी हुई मांग और मैन्युफैक्चरिंग को बढ़ावा देने तथा कंपनियों को आकर्षि‍त करने के सरकारी प्रयास से इसमें मदद मिली है। इसकी वजह से बहुत सी कंपनियां अपनी रणनीति में बदलाव कर चीन+1  मॉडल पर काम कर रही हैं।

आगे हम मैन्युफैक्चरिंग आधार को बढ़ाने, जो कि बड़े पैमाने पर नौकरी देने वाला सेक्टर है, की कोशि‍श के तहत पूंजीगत खर्च के लिए और प्रेरणा एवं प्रोत्साहन देख सकते हैं। आदर्श रूप से देखें तो निर्माण, किफायती मकान, रियल एस्टेट (कॉमर्शि‍यल सहित), पर्यटन, बुनियादी ढांचा (खासकर सड़कें, रेलवे) को वित्तीय प्रोत्साहन मिलना चाहिए, यह देखते हुए कि ये ऐसे सेक्टर हैं, जिनमें सबसे ज्यादा मल्टीप्लायर इफेक्ट होता है।

जिन अन्य सेक्टर्स पर ध्यान देना चाहिए वे हैं- एमएसएमई/ एसएमई। ऐसा अनुमान है कि भारत में करीब 6.5 लाख छोटे उद्यम हैं, जो कृषि के बाद सबसे ज्यादा नौकरियां देने वाला सेक्टर है। ऐसी प्रमुख MSME/SME, जो बड़ी कंपनियों को सप्लाई करने वाले चेन में हैं, उनमें फिर से ग्रोथ को रफ्तार देने में मदद के लिए नीतियां बनानी काफी महत्वपूर्ण हैं।

अब हम एक नए चक्र की तरफ बढ़ रहे हैं, तो केंद्र सरकार के पूंजीगत व्यय को 4 लाख करोड़ से बढ़ाकर 5.5 लाख करोड़ रुपये तक करना होगा, ताकि जरूरी शुरुआती गति बन सके। राज्यों को भी आवंटन करना होगा, क्योंकि बुनियादी ढांचे पर ज्यादातर खर्च राज्यों के स्तर पर होता है।

चुनौतीपूर्ण सकल राजकोषीय घाटे के लक्ष्य की चुनौती को देखते हुए कुल खर्च में काफी संतुलन बनाकर रखना होगा। राजकोषीय घाटा वित्त वर्ष 2022 में 5 फीसद को पार हो सकता है। (वित्त वर्ष 2021 में यह 7.5 फीसदी हो सकता है, जबकि बजट लक्ष्य 3.5 फीसदी था) राज्यों और केंद्र का मिलाकर राजकोषीय घाटा वित्त वर्ष 2022 में 11 से 12 फीसदी तक पहुंच सकता है।


इस ट्रिक से आसानी से पता लगाएं, कहीं आपका पासवर्ड हैकर्स की नज़र में तो नहीं

इस ट्रिक से आसानी से पता लगाएं, कहीं आपका पासवर्ड हैकर्स की नज़र में तो नहीं

आपको बता दें गूगल ने कुछ समय पहले एक टूल जारी किया था। जिससे पासवर्ड के लीक होने, कमजोर होने या फिर एक पासवर्ड कई अकाउंट में इस्तेमाल करने के बारे में पता लगाया जा सकता है। आप passwords.google.com पर जा कर अपना अकाउंट लॉग इन कर इसका पता लगा सकते हैं। यहां पासवर्ड चेकअप का एक ऑप्शन होगा। जिस पर क्लिक करते ही गूगल आपको जानकारी देगा।

गूगल सेव्ड पासवर्ड के बेस पर जानकारी देगा कि आपके कितने पसावर्ड कॉम्प्रोमाइज्ड हैं यानी जो डेटा लीक में लीक हो चुके हैं। इसके साथ ही आपके कितने पासवर्ड दोबारा इस्तेमाल किए गए हैं और कितने पासवर्ड्स कमजोर हैं। कॉम्प्रोमाइज्ड पासवर्ड पर क्लिक करके आपके अलग अलग वेबसाइट पर लॉग इन किए गए पासवर्ड नज़र आएंगे। 

यहां ये पता चलेगा कि कभी न कभी डेटा लीक के दौरान लीक हो चुके हैं और हो सकता है कि भविष्य में आप इस वजह से संकट में फंस जाएं। गूगल इस टूल में चेंज पासवर्ड का भी ऑप्शन देता है। यहां क्लिक करते ही आप उस वेबसाइट पर पहुंच जाएंगे जिसका पासवर्ड लीक हुआ है अब यहां आप अपना पासवर्ड बदल सकते हैं।


Kareena Kapoor हॉस्पिटल से डिस्चार्ज होकर बेबी बॉय के साथ पहुंची घर       ‘ये रिश्ता क्या कहलाता है’ फेम रोहन मेहरा और कांची सिंह का हुआ ब्रेकअप       गाजर का हलवा लेकर रणवीर सिंह से मिलने पहुंची फैन, अभिनेता बोले...       रणबीर कपूर की मां नीतू और बहन रिद्धिमा ने प्रारम्भ कर दी विवाह की तैयारी?       जैकलीन फर्नांडिस ने दिखाई 'भूत पुलिस' के पोस्टर की झलक       Ind vs Eng: टूट सकता है Dhoni का ये बड़ा रिकॉर्ड, Virat Kohli डे-नाइट टेस्ट में रच सकते हैं इतिहास       Suryakumar Yadav को इस साउथ भारतीय लड़की से हुआ था प्यार       ट्रोल हुई Virat Kohli की RCB, 14.25 करोड़ में बिकने वाले Glenn Maxwell बुरी तरह फ्लॉप       IPL नीलामी में Unsold रहने के बाद मैदान पर निकला इस खिलाड़ी का गुस्सा       Covid-19 से संक्रमित हुआ Sri Lanka का ये टॉप गेंदबाज       यात्रियों के पर्स और मोबाइल उड़ाये, कोटा-हिसार ट्रेन में चोरों का धावा       दहेज के लिए विवाहिता को जहर देकर मार डाला       आज से इन राज्‍यों में होगी बारिश, दिल्‍ली में छाएगा कोहरा       राजस्थानी भाषा की मान्यता के लिये तेज हुआ संघर्ष, लिया ये संकल्प       कोलकाता पुलिस को कैसे लगी पामेला के ड्रग्स एडिक्शन की खबर       नाश्ता न्यूट्रिशन से होगा भरपूर तो इम्यूनिटी रहेगी स्ट्रॉन्ग, हर उम्र वर्ग की जरूरत के मुताबिक होनी चाहिए डाइट       जॉगिंग के लिए घर से बाहर निकलते वक्त इन 5 बातों का रखें ख़्याल       लंबे लॉकडाउन में महिलाएं अधिक हुई हैं डिप्रेशन की शिकार       बिना जिम जाए घर में ही बना सकते हैं सिक्स-पैक एब्स इन योगासनों की मदद से       कहीं आपको सर्वाइकल तो नहीं हो गया है? जानिए लक्षण और उपचार