हम बिहारी हैं साहब, जब ठान लें ना, तो पहाड़-वहाड़ सब को चीर देते हैं : पूर्व सीएम मांझी

हम बिहारी हैं साहब, जब ठान लें ना, तो पहाड़-वहाड़ सब को चीर देते हैं : पूर्व सीएम मांझी

संघ लोकसेवा आयोग (UPSC) की कठिन परीक्षा में देशभर में बिहार का परचम लहराने वाले शुभम कुमार (National Topper Shubham Kumar) को हर ओर से बधाई मिल रही है। मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार, डिप्‍टी सीएम तारकिशोर प्रसाद समेत तमाम बड़े नेताओं ने भी इस लाल को शुभकामना दी है। पूर्व मुख्‍यमंत्री जीतन राम मांझी (Ex CM Jitan Ram Manjhi) ने अपने अलग अंदाज में इस टापर को बधाई दी है। अपने ट्वि‍टर हैंडल पर उन्‍होंने लिखा है कि हम बिहारी हैं साहेब, जब ठान लें ना तो पहाड़-वहाड़ सब चीर देते हैं, ई UPSC का चीज है। बिहार के लाल शुभम को बहुत-बहुत बधाई है। हमें फक्र है हमारे लाल शुभम और उनके माता-पिता पर।

भगवान राम पर बयान के बाद भी नहीं रुके मांझी 

भगवान राम पर बयान देकर पूर्व सीएम विवादों में घिरे हैं। उन्‍होंने कहा था कि वे राम को भगवान नहीं मानते। इस पर भाजपा ने कड़ी आपत्ति जताई है। कई अन्‍य दलों ने भी उनके बयानों की निंदा की है। हालांकि, हम के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष मांझी ने कहा कि वे अपने बयान पर कायम हैं। हालांकि मांंझी यहीं नहीं रुके। भगवान राम को काल्‍पनिक बताने के साथ रामायण को कहानी बताने के बाद उन्‍होंने कहा कि सवर्ण विदेशी हैं। उन्‍होंने कहा कि अनुसूचित जाति के लोग मंदिर नहीं जाएं। कहा कि राक्षस तो अच्‍छे लोग थे। इन बयानों से भाजपा के कई नेता नाराज हैं। बहरहाल राजनीति से अलग उन्‍होंने यूपीएससी टापर को बधाई दी है। गौरतलब है कि कटिहार के रहने वाले बैंक प्रबंधक के पुत्र शुभम कुमार देशभर में पहले स्‍थान पर आए हैं। इनसे पूर्व आमिर सुबहानी, आलोक रंजन झा, सुनील कुमार ने यह कीर्तिमान स्‍थापित किया था। ऐसे में बिहारी मेधा ने लोहा मनवाया है। पूर्व सीएम जीतन राम मांझी ने उन्‍हें बधाई भी ठेठ बिहारी शब्‍दों में दी है। 


जहानाबाद में दिल्ली से आए दो भाइयों की डूबने से मौत, पैर फिसलने की वजह से हुआ हादसा

जहानाबाद में दिल्ली से आए दो भाइयों की डूबने से मौत, पैर फिसलने की वजह से हुआ हादसा

बिहार के जहानाबाद में सोमवार को एक हादसे में दो भाइयों की मौत हो गई। जहानाबाद के मखदुमपुर प्रखंड के सोलहडा पंचायत स्थित नहर में डूबने की वजह से दिल्ली से आए दो चचेरे भाई की मौत हो गई। मौत की खबर आग की तरह पूरे गांव में फैल गई। जानकारी के मुताबिक दोनों चचेरे भाई दादा के श्राद्ध काम में भाग लेने के लिए दिल्ली से गांव आए हुए थे। 


पैर फिसलने की वजह से हुआ हादसा

जानकारी के मुताबिक मरने वालों में राजेश राम का पुत्र सुनील कुमार 14 वर्ष एवं विमलेश प्रसाद का पुत्र दीपक कुमार 15 वर्ष बताया जाता है। दोनों रविवार की देर शाम नहर की ओर घुमने गए थे। पैर फिसल जाने के कारण दोनों गहरे में पानी चले गए और जिसकी वजह डूबने से दोनों की मौत हो गई। देर रात तक घर नहीं लौटने के बाद स्वजनों ने गांव में काफी खोजबीन की। लेकिन दोनों चचेरे भाइयों को कुछ पता नहीं चल सका। सोमवार की सुबह ग्रामीणों ने नहर में दोनों भाइयों के शव को पानी में उपलता देखा। जैसे-तैसे गांव के लोगों ने दोनों भाइयों के शवों को नहर से बाहर निकाला।  शव मिलते ही गांव में कोहराम मच गया।परिजनों को रो-रोकर बुरा हाल है। घटना की सूचना पुलिस की दी गई। जिसके बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को अपने कब्जे में लिया और पोस्टमार्टम को लेकर सदर अस्पताल जहानाबाद भेज दिया।

 
घटना के संबंध में बताया जाता हे कि, दोनों के पिता दिल्ली में प्राइवेट नौकरी करते हैं। पिता अपने बेटे के साथ पिता के श्राद्धकर्म में शामिल होने दिल्ली से गांव आए थे। सभी लोग श्राद्धकर्म में आए परिजनों के साथ व्यस्त थे। इस घटना से ग्रामीण हतप्रद है। ग्रामीणों ने बताया दोनों किशोर हंसमुख थे। पुलिस ने पोस्टमार्टम कराकर शव को परिजनों को सौंप दिया। इस घटना के बाद स्वजनों का रो रोकर बुरा हाला है।