बिहार में आगे बढ़ती आधी आबादी, महिला सशक्तीकरण से जुड़ी सुखद खबरों के आने का सिलसिला जारी

बिहार में आगे बढ़ती आधी आबादी, महिला सशक्तीकरण से जुड़ी सुखद खबरों के आने का सिलसिला जारी

आर्थिक एवं नीतिगत मामलों में महिलाओं की भागीदारी के मोर्चे पर पिछड़े माने जाने वाले बिहार से अब महिला सशक्तीकरण से जुड़ी सुखद खबरों के आने का सिलसिला जारी है। कुछ दिन पहले पुलिस में महिलाओं की बड़ी संख्या और उनके कमांडो दस्ते बनाने की खबरों को लेकर बिहार चर्चा में रहा। वहीं अब पंचायत चुनाव में महिलाओं की बड़ी हिस्सेदारी पर बात हो रही है। वैसे तो यहां त्रिस्तरीय पंचायत के सभी पदों पर महिलाओं के लिए 50 प्रतिशत आरक्षण की व्यवस्था है, लेकिन अनारक्षित पदों पर भी पुरुषों की तुलना में महिलाएं ज्यादा नामांकन दाखिल करा रही हैं।

बिहार की यह सफलता इसलिए महत्वपूर्ण है, क्योंकि सामाजिक परिवर्तन का महिला सशक्तीकरण और लैंगिक न्याय से सीधा संबंध होता है। बिहार में एक तरफ पंचायत चुनाव द्वारा नीतिगत मामलों में भूमिका तलाशती और दूसरी तरफ पुलिस की वर्दी में परेड कर रही आधी आबादी पिछले डेढ़ दशकों में महिला सशक्तीकरण के प्रयासों की सफलता का प्रतीक है।


दरअसल, वर्ष 2005 में सत्ता परिवर्तन के बाद महिला शिक्षा के दृष्टिकोण से कई महत्वपूर्ण बदलाव आए हैं। मसलन आवागमन सुलभ होने से स्कूल आना-जाना आसान हुआ है। सरकारी स्कूलों में शिक्षकों की बहाली और लड़कियों को स्कूल जाने के लिए प्रेरित करने के लिए यूनिफार्म और मुफ्त साइकिल जैसी योजनाएं बहुत प्रभावी सिद्ध हुई हैं। वहीं बदहाल कानून व्यवस्था में भारी सुधार ने अभिभावकों के मन से डर को निकाला है। ऐसे तमाम कारणों से महिलाएं शिक्षा ग्रहण करने की राह पर आगे बढ़ीं। बड़ी संख्या में लड़कियों ने न सिर्फ प्राथमिक कक्षाओं में नामांकन कराया, बल्कि उच्च शिक्षा तक गईं और सरकारी तथा निजी दोनों ही क्षेत्रों में रोजगार के लिए आगे भी आ रही हैं।


ऐसे में बिहार इस नीतिगत प्रयास और उसके सकारात्मक प्रभाव का एक उत्कृष्ट उदाहरण बना है, जो नीतियों के जरिये सामाजिक परिवर्तन और महिलाओं के भीतर आर्थिक गतिविधियों में शामिल होने की प्रबल इच्छा की एक नजीर पेश कर रहा है। हालांकि, इसका यह मतलब बिल्कुल नहीं है कि लैंगिक समानता की कोशिश बंद कर दी जाए। हमारे देश के लिए यह गर्व का विषय है कि यहां महिलाओं की राजनीतिक भागीदारी स्वतंत्रता के समय से ही सुनिश्चित की गई। हालांकि, अधिकारों का मिलना और उनका वास्तविक अर्थों में प्रयोग दो अलग-अलग मसले हैं।


यह बिंदु तब और प्रासंगिक हो जाता है, जब ऐसा प्रश्न आर्थिक गतिविधियों या रोजगार से संबंधित हो। यह सच है कि बिहार सरकार के लगातार प्रयासों ने यह साबित कर दिया है कि सामान्य रूप से पितृसत्ता के प्रभाव वाले क्षेत्र के पिछड़े राज्य में भी सामाजिक रूढ़ियों को तोड़ा जाना असंभव नहीं है, लेकिन इस दिशा में अभी भी एक लंबा सफर तय करना शेष है।


जहानाबाद में दिल्ली से आए दो भाइयों की डूबने से मौत, पैर फिसलने की वजह से हुआ हादसा

जहानाबाद में दिल्ली से आए दो भाइयों की डूबने से मौत, पैर फिसलने की वजह से हुआ हादसा

बिहार के जहानाबाद में सोमवार को एक हादसे में दो भाइयों की मौत हो गई। जहानाबाद के मखदुमपुर प्रखंड के सोलहडा पंचायत स्थित नहर में डूबने की वजह से दिल्ली से आए दो चचेरे भाई की मौत हो गई। मौत की खबर आग की तरह पूरे गांव में फैल गई। जानकारी के मुताबिक दोनों चचेरे भाई दादा के श्राद्ध काम में भाग लेने के लिए दिल्ली से गांव आए हुए थे। 


पैर फिसलने की वजह से हुआ हादसा

जानकारी के मुताबिक मरने वालों में राजेश राम का पुत्र सुनील कुमार 14 वर्ष एवं विमलेश प्रसाद का पुत्र दीपक कुमार 15 वर्ष बताया जाता है। दोनों रविवार की देर शाम नहर की ओर घुमने गए थे। पैर फिसल जाने के कारण दोनों गहरे में पानी चले गए और जिसकी वजह डूबने से दोनों की मौत हो गई। देर रात तक घर नहीं लौटने के बाद स्वजनों ने गांव में काफी खोजबीन की। लेकिन दोनों चचेरे भाइयों को कुछ पता नहीं चल सका। सोमवार की सुबह ग्रामीणों ने नहर में दोनों भाइयों के शव को पानी में उपलता देखा। जैसे-तैसे गांव के लोगों ने दोनों भाइयों के शवों को नहर से बाहर निकाला।  शव मिलते ही गांव में कोहराम मच गया।परिजनों को रो-रोकर बुरा हाल है। घटना की सूचना पुलिस की दी गई। जिसके बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को अपने कब्जे में लिया और पोस्टमार्टम को लेकर सदर अस्पताल जहानाबाद भेज दिया।

 
घटना के संबंध में बताया जाता हे कि, दोनों के पिता दिल्ली में प्राइवेट नौकरी करते हैं। पिता अपने बेटे के साथ पिता के श्राद्धकर्म में शामिल होने दिल्ली से गांव आए थे। सभी लोग श्राद्धकर्म में आए परिजनों के साथ व्यस्त थे। इस घटना से ग्रामीण हतप्रद है। ग्रामीणों ने बताया दोनों किशोर हंसमुख थे। पुलिस ने पोस्टमार्टम कराकर शव को परिजनों को सौंप दिया। इस घटना के बाद स्वजनों का रो रोकर बुरा हाला है।