कब है काल भैरव जयंती, जानें कैसा हुआ था इनका अवतरण

कब है काल भैरव जयंती, जानें कैसा हुआ था इनका अवतरण

Kaal Bhairav Jayanti 2020: हर वर्ष मार्गशीर्ष कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को काल भैरव जयंती मनाई जाती है। मान्यता है कि इस तिथि पर भगवान काल भैरव का जन्म हुआ था। इस वर्ष यह तिथि 7 दिसंबर, सोमवार के पड़ रही है। काल भैरव को काशी का कोतवाल भी कहा जाता है। इस दिन भगवान काल भैरव की पूजा की जाती है। साथ ही यह भी कहा जाता है कि काशी में रहने वाले हर व्यक्ति को यहां पर रहने के लिए बाबा काल भैरव की आज्ञा लेनी पड़ती है। मान्यता है कि भगवान शिव ने ही इनकी नियुक्ति यहां की थी। आइए जानते हैं भैरव जी के अवतरण की कथा-

जानें कैसे हुआ काल भैरव जी का अवतरण:

शिवपुराण के अनुसार, एक बार सबसे ज्यादा कौन श्रेष्ठ है इसे लेकर ब्रह्मा जी, विष्णु जी और भगवान शिव के बीच विवाद पैदा हो गया। इसी बीच ब्रह्माजी ने भोलेनाथ की निंदा की। इसके चलते शिव जी बेहद क्रोधित हो गए। शिव शंकर के रौद्र रूप से ही काल भैरव का जन्म हुआ था। काल भैरव ने अपने इस अपमान का बदला लेने के लिए अपने नाखून से ब्रह्माजी के पांचवे सिर को काट दिया। क्योंकि इस सिर ने शिव जी की निंदा की थी। इसके चलते ही काल भैरव पर ब्रह्म हत्या का पाप लग गया था।

ब्रह्म हत्या के पाप से मुक्त होने के लिए गए थे काशी:

ब्रह्माजी का कटा हुआ शीष काल भैरव के हाथ में चिपक गया था। ऐसे में काल भैरव को ब्रह्म हत्या से मुक्ति दिलाने के लिए शिव शंकर ने उन्हें प्रायश्चित करने के लिए कहा। शिव जी ने बताया कि वो त्रिलोक में भ्रमण करें और जब ब्रह्रमा जी का कटा हुआ सिर हाथ से गिर जाएगा उसी समय से उनके ऊपर से ब्रह्म हत्या का पाप हट जाएगा। फिर जब वो काशी पहुंचे तब उनके हाथ से ब्रह्मा जी का सिर छूट गया। इसके बाद काल भैरव काशी में ही स्थापित हो गए और शहर के कोतवाल कहलाए

ऐसा कहा जाता है कि काशी के राजा भगवान विश्वनाथ हैं। वहीं, नगरी के कोतवाल काल भैरव हैं। बिना काल भैरव के दर्शन के बाबा विश्वनाथ का दर्शन अधूरा माना जाता है।


खुले स्कूलः इन नियमों का पालन होगा जरुरी, बच्चे क्लासेज के लिए तैयार

खुले स्कूलः इन नियमों का पालन होगा जरुरी, बच्चे क्लासेज के लिए तैयार

कोरोना संकट के कारण महीनों से बंद स्कूल सोमवार यानी आज से खुलने जा रहे हैं। इसमें राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली (Delhi Schools) और राजस्थान (Rajasthan schools) के स्कूल आज से फिर से खुल जाएंगे। हालाँकि दिल्ली में बोर्ड एग्जाम के मद्देनजर फ़िलहाल सिर्फ 10वीं और 12वीं के छात्रों के लिए स्कूल खोले जा रहे हैं, जबकि राजस्थान में 9 से 12वीं कक्षा के स्कूल खुल रहे हैं।

दिल्ली में आज से खुल रहे स्कूल
दरअसल, पिछले 10 महीनों से कोरोना वायरस के चलते स्कूल कॉलेज बंद हैं। वहीं हाल में सीबीएसई बोर्ड एग्जाम की तारीखों का एलान होने के बाद दिल्ली स्कूलों को खोलने और दसवी -12वीं के छात्रों की ऑनलाइन पढ़ाई दोबारा शुरू करने का फैसला लेते हुये आज से दिल्ली और राजस्थान के स्कूलों को खोला जा रहा है। हालंकि इसके लिए सरकार ने कुछ नियम लागू किये हैं, जिनको जान लेना बेहद जरुरी है।

राजस्थान में स्कूल-काॅलेज और अन्य शिक्षण संस्थान खुले
दोनों ही राज्य सरकारों ने स्कूल खोलने को लेकर नए दिशा-निर्देश जारी किए हैं। इसके तहत सबसे पहले बच्चों सहित सभी स्टाफ के लिए मास्क लगाना और सैनिटाइजर का इस्तेमाल अनिवार्य होगा।

दिल्ली के स्कूल के लिए नए दिशा-निर्देश
दिल्ली में 10-12वी के छात्रों के लिए स्कूल खुल रहे हैं।

स्कूलों के कॉरिडो र में हैंडवाशिंग कंसोल और सैनिटाइजर उपलब्ध कराया जाएगा।

स्टूडेंट्स को दो बैच में बुलाया जाएगा। एक क्लास के आधे बच्चों के एक दिन और आधे बच्चों को अगले दिन बुलाया जाएगा।

बच्चों को स्कूल आने से पहले अपने माता-पिता से सहमति पत्र (Consent Form) लाना होगा।

बच्चों को खाना और पानी की बोतल साथ लानी होगी। आपस में खाना शेयर करने की अनुमति नहीं होगी।

केवल उन्हीं स्कूलों को खोला जाएगा, जो कंटेनमेंट जोन से बाहर हैं।

कंटेनमेंट जोन में रहने वाले छात्रों या कर्मचारियों को भी स्कूलों में प्रवेश करने की अनुमति नहीं दी जाएगी।

राजस्थान में स्कूल के लिए गाइडलाइन
राजस्थान में कल से स्कूलो में 9 से 12वीं तक की कक्षाएं शुरु हो रही हैं।

इसके अलावा विश्वविद्यालय, महाविद्यालय की अन्तिम वर्ष की कक्षाओं, कोचिंग सेन्टर और सरकारी प्रशिक्षण संस्थान कल से खुल जाएंगे।

सभी स्कूल-कॉलेजों में क्लास को दो बैच में बांटा जाएगा। 50 फीसदी छात्र पहले दिन उपस्थित रहेंगे और बाकि 50 फीसदीदूसरे दिन क्लास लेंगे।

शिक्षकों को संक्रमण की रोकथाम के लिए स्वास्थ्य विभाग ट्रेनिंग दे रहा है।

सुरक्षित दूरी और मास्क सहित अन्य स्वास्थ्य नियमों का पूरा पालन करना होगा।


Big Boss 14: एजाज की रुबीना-अर्शी से जमकर हुई लड़ाई       शाहिद का नाम लेकर चिढ़ा रहे थे रणबीर, इस एक्ट्रेस ने ऐसे कर दी बोलती बंद       ये एक्ट्रेस करने जा रही हैं शादी       बाॅलीवुड एक्टर सोनू सूद बने ट्रेलर, फ्री में सिल रहे कपड़े       देवदास ने दिलाई सुचित्रा को हिंदी सिनेमा में पहचान       भीम सेना पर भड़की ये एक्ट्रेस, जीभ काटने के ऐलान पर दिया ये जवाब       ‘तांडव’ वेब सीरीज पर हंगामे को लेकर साक्षी महराज बोले...       फैंस हो जाएं अलर्टः बॉलीवुड में बढ़ी हैकिंग क्राइम, अब इस एक्ट्रेस का इंस्टाग्राम अकाउंट हैक       ‘तांडव’ पर मचा घमासान: बीजेपी करेगी विरोध प्रदर्शन, नेता बोले...       इस बड़ी एक्ट्रेस के खिलाफ पूर्व राज्यपाल ने दर्ज कराई FIR       सीएम योगी, कैबिनेट मंत्री सुरेश राणा के पिता को दी श्रद्धांजलि       यूपी में बची इतनी वैक्सीन, 22 जनवरी को फिर टीकाकरण       वैक्सीन से मौत! टीका लगवाने के 24 घंटे बाद तोड़ा दम, UP में हड़कंप       लखनऊ में कोरोना हारा, 6 महीने में सिर्फ इतने संक्रमित       लखनऊ में रेल हादसा, पटरी से उतरे ट्रेन के डिब्बे       यूपी कैबिनेट विस्तार, 26 जनवरी के बाद कई मंत्रियों की छुट्टी       पाकिस्तान में मोदी-मोदी, अलग सिंधु देश की उठी मांग       WHO पर हावी है चीन, तो कैसे पता चलेगा कोरोना का स्रोत       वुहान लैब के वैज्ञानिकों ने उगला राज, ‘कोरोना’ पर दुनिया के सामने बेनकाब हुआ चीन       अब तक 10 से ज्यादा पत्रकारों की मौत, इस देश में दो जजों की गोली मारकर हत्या