मौसम विभाग : चेन्नई के पुदुकोट्टई, रामनाथपुरम समेत कई स्थानों पर मामूली से मध्यम बारिश की आसार

मौसम विभाग : चेन्नई के पुदुकोट्टई, रामनाथपुरम समेत कई स्थानों पर मामूली से मध्यम बारिश की आसार

दो दिन पहले भी आईएमडी चेन्नई ने अलर्ट किया था कि दक्षिण हिंदुस्तान में लोगों को बारिश से अभी निजात मिलने की आसार नहीं है. भारतीय मौसम विभाग ने अगले पांच दिनों तक कर्नाटक, केरल, तमिलनाडु, पुडुचेरी और कराईकल में मध्यम से भारी वर्षा की भविष्यवाणी की थी. मौसम विभाग ने कर्नाटक की राजधानी बेंगलुरु में मंगलवार और बुधवार को मामूली से मध्यम बारिश की सभावना जताई थी.

आईएमडी ने अगले पांच दिनों के दौरान तमिलनाडु, पुडुचेरी और कराईकल में 24 नवंबर से 26 नवंबर तक भारी बारिश होने का अनुमान जताया था. दक्षिणी राज्यों में लगातार हो रही बारिश के चलते जनजीवन अस्त व्यस्त है. बारिश के चलते बाढ़ जैसी स्थिति बनी हुई है. राज्यों के नदियां खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं. बारिश की वजह से कई लोगों की अभी तक मौतें हो चुकी हैं, वहीं सैकड़ों लोग अब भी लापता हैं. 


एक बार फिर वरुण गांधी नेकेंद्र सरकार को घेरा, परीक्षा दे दी तो सालों साल रिजल्ट नहीं, आखिर कब तक सब्र करे भारत का नौजवान?

एक बार फिर वरुण गांधी नेकेंद्र सरकार को घेरा, परीक्षा दे दी तो सालों साल रिजल्ट नहीं, आखिर कब तक सब्र करे भारत का नौजवान?

यूपी में प्रतियोगी परिक्षाओं के परिणामों में देरी, परीक्षा से पहले पेपर लीक होने जैसे मामले सियासी रंग ले चुके हैं. इसी के मद्देनजर पीलीभीत से बीजेपी के सांसद वरुण गांधी ने एक बार फिर अपनी ही सरकार के खिलाफ बगावती सुर दिखाए हैं. लगातार किसानों के मुद्दे पर केंद्र सरकार को घेर रहे वरुण ने इस बार नौकरी और पेपर लीक मामले को लेकर निशाना साधा है.

वरुण गांधी ने ट्वीट किया, पहले तो सरकारी नौकरी ही नहीं है, फिर भी कुछ मौका आए तो पेपर लीक हो, परीक्षा दे दी तो सालों साल रिजल्ट नहीं, फिर किसी घोटाले में रद्द हो.उन्होंने आगे कहा, रेलवे ग्रुप डी के सवा करोड़ नौजवान दो साल से परिणामों के इंतजार में हैं. सेना में भर्ती का भी वही हाल है. आखिर कब तक सब्र करे भारत का नौजवान?

इससे पहले UPTET परीक्षा लीक को लेकर भी साधा था निशाना

यूपी में हाल ही में UPTET परीक्षा का पेपर लीक हो गया था. इसे लेकर वरुण गांधी ने ट्वीट किया था, UPTET परीक्षा का पेपर लीक होना लाखों युवाओं के भविष्य से खिलवाड़ है. इस दलदल की छोटी मछलियों पर कार्यवाही से काम नहीं चलेगा, उनके राजनैतिक संरक्षक शिक्षा माफियाओं पर कठोर कार्यवाही करे सरकार. क्योंकि अधिकांश शिक्षण संस्थानों के मालिक राजनैतिक रसूख दार हैं, इनपर कार्यवाही कब होगी? इस मामले में छोटे-छोटे लोगों को गिरफ्तार करने की बजाय शिक्षा संस्थाओं के माफियाओं पर कार्रवाई की जानी चाहिए जो इस शर्मनाक खेल के असली खिलाड़ी हैं. परीक्षा का प्रश्नपत्र लीक होने के मामले में अब तक 29 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है.

अखिलेश यादव ने योगी सरकार को घेरा

अखिलेश यादव ने ट्विटर पर कहा है, “UPTET 2021 की परीक्षा का पेपर लीक होने की वजह से रद्द होना बीसों लाख बेरोज़गार अभ्यर्थियों के भविष्य के साथ खिलवाड़ है. बीजेपी सरकार में पेपर लीक होना, परीक्षा व परिणाम रद्द होना आम बात है. उप्र शैक्षिक भ्रष्टाचार के चरम पर है. बेरोजगारों का इंकलाब होगा- बाइस में बदलाव होगा!”

प्रियंका गांधी ने लगाया ये आरोप

प्रियंका गांधी ने ट्वीट के जरिए कहा, ‘भर्तियों में भ्रष्टाचार, पेपर आउट ही बीजेपी सरकार की पहचान बन चुका है. आज यूपी टेट का पेपर आउट होने की वजह से लाखों युवाओं की मेहनत पर पानी फिर गया. हर बार पेपर आउट होने पर योगी आदित्यनाथ जी की सरकार ने भ्रष्टाचार में शामिल बड़ी मछलियों को बचाया है, इसलिए भ्रष्टाचार चरम पर है.’