अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कोरोना को लेकर दी इस बड़े राहत पैकेज की मंजूरी

 अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कोरोना को लेकर दी इस बड़े राहत पैकेज की मंजूरी

कोरोना के कहर से अमेरिकी अर्थव्यवस्था (US Economy) को बचाने के लिए अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (US President Donald Trump) ने अब तक के सबसे बड़े राहत पैकेज को लेकर मंजूरी दे दी है। 

शुक्रवार को अमेरिकी सदन से 150 लाख करोड़ रुपये ( 2 ट्रिलियन अेरिकी डॉलर) की आर्थिक सहायता (US announced Stimulus package) की घोषणा हुई, जिस बाद में राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भी मंजूरी दे दी।  अमेरिकी के इतिहास में यह सबसे बड़ा राहत पैकेज है। वैश्विक महामारी कोरोना से हुए नुकसान से निपटने के लिए इस आर्थिक पैकेज को भिन्न-भिन्न ढंग से प्रयोग किया जाएगा। इसके तहत देश के सभी लोगों के खाते में पैसे ट्रांसफर किए जाएंगे। साथ ही, बेरोजगारों (Jobless Claim) को भत्ता दिया जाएगा।

आपकी जानकारी के लिए बताते चलें कि चाइना के वुहान से तीन महीने पहले फैले इस वायरस की वजह से दुनियाभर में अब तक पांच लाख से अधिक लोग प्रभावित हुए हैं, वहीं इसकी वजह से अब तक 26000 से अधिक लोगों की जान गई है।

राहत पैकेज से क्या होगा- ट्रंप सरकार ने 2 लाख करोड़ डॉलर (करीब 150 लाख करोड़ रुपये) के ऐतिहासिक पैकेज का ऐलान किया है। इसमें अमेरिका के हर एडल्ट को वन टाइम 90,000 रुपये(1200 डॉलर) व बच्चों को 37500 रुपये (500 अमेरिकी डॉलर) दिया जाएगा।

इस राहत पैकेज में ज्यादातर अमेरिकी नागरिकों को डायरेक्ट पेमेंट किया जाएगा। इसके साथ ही छोटे बिजनेस के लिए 367 अरब डॉलर मुहैया कराए जाएंगे ताकि उनके जिन कर्मचारियों को विवशता में घर रहना पड़ रहा है उनको सैलरी मिल सके।

बड़ी इंडस्ट्रीज सस्ते कर्ज़ दिए जाएंगे ताकि कठिन वक्त में वो अपना कारोबार कर सकें। इसका लाभ एविएशन इंडस्ट्री जैसे सेक्टर को मिलेगा। अस्पतालों को भी महत्वपूर्ण सपोर्ट देने का वादा किया गया है।

मार्च में अमेरिकी शेयर मार्केट 20 प्रतिशत टूटे
कोरोना संक्रमण के मुद्दे बढ़ने की वजह से अमेरिकी निवेशकों की चिंता बढ़ गई है। इसीलिए अेमरिकी शेयर बाजारों में तेज गिरावट देखने को मिली।

शुक्रवार को प्रमुख बेंचमार्क इंडेक्स डाओ जोंस 915 अंक (4 प्रतिशत नीचे) की गिरावट के साथ 21,636 के स्तर पर बंद हुआ। वहीं, टेक्नोलॉजी कंपनियों वाला प्रमुख इंडेक्स नैस्डैक 295 अंक (3.80 प्रतिशत नीचे) की बड़ी गिरावट के साथ 7502 पर बंद हुआ।