नॉन-मोबाइल बेस्‍ड इंटरनेट डिवाइस में भी नहीं चलेंगे ये ऐप्‍स, पढ़े

नॉन-मोबाइल बेस्‍ड इंटरनेट डिवाइस में भी नहीं चलेंगे ये ऐप्‍स, पढ़े

हिंदुस्तान सरकार की ओर से पर तत्काल असर से रोक लगा दी गई है। केन्द्र सरकार (Central Government) की ओर से ये निर्णय ऐसे वक्त में लिया गया है जब हिंदुस्तान व चाइना के बीच बढ़े तनाव को कम करने के लिए आज लेफ्टिनेंट जनरल स्तर (Lieutenant General Level) की एक बार फिर मीटिंग होने जा रही है। 

इस मीटिंग से पहले नरेन्द्र मोदी सरकार चाइना को ये बता देना चाहती है कि इस बार वह किसी भी ढंग से झुकने वाली नहीं हैं। सरकार ने जिस तरह से लेफ्टिनेंट जनरल स्तर की मीटिंग से पहले ये निर्णय लिया है, उससे साफ हो गया है कि सरकार ने अब चाइना को सीधे तौर पर चेतावनी दे दी है।

आईटी मंत्रालय ने सोमवार को जारी एक आधिकारिक बयान में बोला कि उसे विभिन्न ढंग से कई शिकायतें मिली हैं, जिनमें एंड्रॉइड व आईओएस प्लेटफॉर्म पर उपलब्ध कुछ कही गई है। इन रिपोर्ट में बोला गया है कि ये एप यूजर्स के डेटा को चुराकर, उन्हें गुपचुक ढंग से हिंदुस्तान के बाहर स्थित सर्वर को भेजते हैं। बयान में बोला गया, हिंदुस्तान की राष्ट्रीय सुरक्षा के प्रति शत्रुता रखने वाले तत्वों द्वारा इन आंकड़ों का संकलन, इसकी जांच-पड़ताल व प्रोफाइलिंग अंतत: हिंदुस्तान की संप्रभुता व अखंडता पर आधात होता है, यह बहुत अधिक चिंता का विषय है, जिसके विरूद्ध इमरजेंसी तरीकों की आवश्यकता है। सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने आईटी कानून व नियमों की धारा 69ए के तहत अपनी शक्तियों का प्रयोग करते हुए इन ऐप्स पर प्रतिबंध लगाने का निर्णय किया।

गृह मंत्रालय के तहत आने वाले भारतीय साइबर क्राइम समन्वय केन्द्र ने इन दुर्भावनापूर्ण ऐप्स पर व्यापक प्रतिबंध लगाने की सिफारिश भी की थी। मंत्रालय की ओर से जारी बयान में बोला गया है, इनके आधार पर व हाल ही में विश्वसनीय सूचनाएं मिलने पर कि ऐसे ऐप हिंदुस्तान की संप्रभुता व अखंडता के लिए खतरा हैं, हिंदुस्तान सरकार ने मोबाइल व गैर-मोबाइल इंटरनेट सक्षम उपकरणों में उपयोग किए जाने वाले कुछ ऐप के प्रयोग को बंद करने का फैसला लिया है। बयान में बोला गया है कि यह कदम करोड़ों भारतीय मोबाइल व इंटरनेट उपयोगकर्ताओं के हितों की रक्षा करेगा। यह फैसला भारतीय साइबरस्पेस की सुरक्षा व संप्रभुता सुनिश्चित करने की दिशा में एक कदम है।



-

नॉन-मोबाइल बेस्‍ड इंटरनेट डिवाइस में भी नहीं चलेंगे ऐप्‍स
केंद्रीय सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने बताया कि इंफॉर्मेशन टेक्‍नोलॉजी एक्‍ट (IT Act) की धारा-69ए व इंफॉर्मेशन टेक्‍नोलॉजी (प्रोसीजर एंड सेफगार्ड्स फॉर ब्‍लॉकिंग ऑफ एक्‍सेस ऑफ इंफॉर्मेशन बाई पब्लिक) रूल्‍स 2009 के संबंधित प्रावधान उसे विदेशी ऐप्‍स पर प्रतिबंध लगाने की शक्तियां प्रदान करता है। बता दें कि केन्द्र की ओर से जारी अधिसूचना में बोला गया है कि उपलब्ध जानकारी के मुताबिक, ये ऐप्स ऐसी गतिविधियों में शामिल हैं, जो हिंदुस्तान की रक्षा, ​सुरक्षा, संप्रभुता व अखंडता के लिए हानिकारक है। केन्द्र ने बोला कि इन ऐप्स का मोबाइल व नॉन-मोबाइल बेस्ड इंटरनेट डिवाइसेज में भी प्रयोग नहीं किया जा सकेगा।