दिल्ली सरकार ने कोरोना की जाँच के लिए व्यक्तिगत अस्पतालों व प्रयोगशाला में किया यह बड़ा परिवर्तन

दिल्ली सरकार ने कोरोना की जाँच के लिए व्यक्तिगत अस्पतालों व प्रयोगशाला में किया यह बड़ा परिवर्तन

आज के समय में हर एक आदमी किसी न किसी बात को लेकर परेशान है, ऐसे में बीमारियों कहर उसके दिल व दिमाग को गंभीर रूप से हिला रहा है वहीं लगातार कोरोना का केहर बढ़ता ही जा रहा है . 

जंहा हर दिन हजारों लोगों की मृत्यु कोरोना की चपेट माने से हो रही है। वहीं लाखों की संख्या में लोग इस वायरस से संक्रमित पाएं गए है। दिल्ली सरकार ने कोरोना की जाँच के लिए व्यक्तिगत अस्पतालों व प्रयोगशाला की संख्या बढ़ा दी है। पहले आठ व्यक्तिगत प्रयोगशाला में कोरोना की जाँच हो रही थी। इनमें पांच प्रयोगशाला को व शामिल किया गया है। व्यक्तिगत प्रयोगशाला में भी उन्हीं लोगों की जाँच हो सकेगी, जिनमें कोरोना के लक्षण हैं या जो संदिग्धों या संक्रमित लोगों के सम्पर्क में आए हैं।

वहीं डॉक्टरों के अनुसार, जितने ज्यादा लोगों की जाँच होगी, उतनी ही जल्द कोरोना के संक्रमण पर काबू पाया जा सकेगा। इसीलिए कोरोना जाँच केंद्रों की संख्या बढ़ाई गई है। अब लोग लाल पैथ सेक्टर 18 रोहिणी, डाक्टर डेंग प्रयोगशाला अपोलो अस्पताल, सर गंगाराम अस्पताल, मैक्स साकेत, वंस क्वेस्ट प्रयोगशाला फैक्ट्री रोड, प्रोग्नोसिस प्रयोगशाला सेक्टर 19 द्वारका, सिटी एक्सरे एवं स्कैन क्लीनिक, तिलकनगर में जाँच करा सकेंगे।

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार दिल्ली में पहले से ही एम्स, एनसीडीसी केंद्र, राममनोहर लोहिया अस्पताल, लेडी हार्डिंग अस्पताल, आईएलबीएस, आर्मी अस्पताल रिसर्च एवं रेफरल अस्पताल में कोरोना जाँच की जा रही है।