जल्द होगी लेफ्टिनेंट जनरल स्तर की तीसरी बातचीत, पढ़े

जल्द होगी लेफ्टिनेंट जनरल स्तर की तीसरी बातचीत, पढ़े

 हिंदुस्तान व चाइना की सेनाओं (Indian-Chinese Troops) के बीच आज लेफ्टिनेंट जनरल स्तर (Lieutenant General Level) की दौर की बातचीत होगी। 

इस मीटिंग में पूर्वी लद्दाख (Eastern Ladakh) में तनाव को कम करने व संवेदनशील क्षेत्र से सेनाओं को पीछे करने के तौर-तरीकों को अंतिम रूप देने पर चर्चा होगी। यह जानकारी सरकार के सूत्रों ने दी। सूत्रों ने बोला कि यह लेफ्टिनेंट जनरल स्तर की तीसरी बातचीत होगी व यह चुशूल सेक्टर (Chushul Sector) में असली नियंत्रण रेखा (Line of Actual Control) पर भारतीय जमीन पर होगी। पहली दो बैठकें मोलदो में एलएसी (LAC) पर चाइना की जमीन पर हुई थी।

दूसरे दौर की बातचीत में 22 जून को दोनों पक्षों के बीच पूर्वी लद्दाख में तनाव वाले स्थानों पर ‘‘पीछे हटने’’के लिए ‘‘परस्पर सहमति’’ बनी थी। बातचीत में भारतीय प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व 14वीं कोर के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह करेंगे जबकि चीनी पक्ष का नेतृत्व तिब्बत मिलिट्री डिस्ट्रिक्ट के कमांडर कर सकते हैं। गलवान में दोनों पक्षों के बीच 15 जून की रात को हिंसक झड़प हुई थी जिसमें हिंदुस्तान के 20 जवान शहीद हो गए थे जिसके बाद दोनों पक्षों ने कम से कम तीन दौर की मेजर जनरल स्तर की बातचीत की ताकि तनाव को कम करने के उपायों का पता लगाया जा सके।

11 घंटे से ज्यादा समय तक चली थी पिछली बैठक
22 जून को हिंदुस्तान व चाइना की सेना के बीच पूर्वी लद्दाख में विवाद वाले सभी स्थानों से “हटने पर परस्पर सहमति” बन गई थी। पूर्वी लद्दाख में 5 मई से चल रहे गतिरोध में उलझे बलों को पीछे हटाने का निर्णय 22 जून को असली नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर चाइना की तरफ मोलदो में हिंदुस्तान व चाइना के वरिष्ठ कमांडरों के बीच करीब 11 घंटे चली मीटिंग में लिया गया।




बैठक में लिए गए ये फैसले
सूत्रों ने लेफ्टिनेंट जनरल स्तर पर हुई दूसरी मीटिंग का ब्योरा देते हुए बताया कि बातचीत “सौहार्दपूर्ण, सकारात्मक व रचनात्मक माहौल’’ में हुई व यह फैसला लिया गया कि दोनों पक्ष पूर्वी लद्दाख में विवाद वाले सभी स्थानों से हटने के तौर उपायों को अमल में लाएंगे। एक सूत्र ने कहा, “पीछे हटने को लेकर परस्पर सहमति बनी है। पूर्वी लद्दाख में विवाद वाले सभी स्थानों से हटने के तौर-तरीकों पर चर्चा की गई व दोनों पक्ष इसे अमल में लाएंगे। ”



बीजिंग में चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने बोला कि स्थिति सहज बनाने के लिए महत्वपूर्ण कदम उठाने तथा लंबित मुद्दों पर दोनों पक्षों के बीच ‘‘स्पष्ट व गहराई ’’ से वार्ता हुई। सूत्रों ने बोला कि वहां तैनात कमांडर पीछे हटने की विस्तृत रुपरेखा को अंतिम रूप देने के लिए अगले कुछ हफ्तों में कई बैठकें करेंगे।