धारा-144 का उल्लंघन, भाजपा सांसद साक्षी महाराज समेत 50 लोगों पर हुआ मुकदमा

धारा-144 का उल्लंघन, भाजपा सांसद साक्षी महाराज समेत 50 लोगों पर हुआ  मुकदमा

विस्तार कोतवाली पुलिस ने आपदा प्रबंधन अधिनियम और धारा 144 के उल्लंघन को लेकर भाजपा सांसद साक्षी महाराज उनके जनसंपर्क अधिकारी अमितेष सिंह उर्फ नंदू, श्री भगवान भवन के प्रबंधक महेश चंद्र मिश्रा और 47 अज्ञात लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया। ऋषिकेश विधानसभा की रिर्टनिंग अफसर और एसडीएम डॉ. अपूर्वा पांडेय के निर्देश पर कोतवाली पुलिस ने यह कार्रवाई की है। कार्यक्रम के दौरान की फोटो और विडियो से पुलिस अज्ञात लोगों की पहचान कर रही है। 


बुधवार को श्री भगवान भवन में उत्तर प्रदेश के उन्नाव के सांसद साक्षी महाराज के 66वें जन्मदिन के अवसर पर भव्य कार्यक्रम आयोजित किया गया था। कार्यक्रम में लोगों की भारी भीड़ जुटी थी। कार्यक्रम में मास्क पहनने और सामाजिक दूरी का उल्लंघन हुआ था। ऋषिकेश विधानसभा की रिर्टनिंग अफसर और एसडीएम डॉ. अपूर्वा पांडेय ने तहसीलदार और कोतवाली निरीक्षक रवि सैनी को मामले की जांच कर रिपोर्ट प्रस्तुत करने के निर्देश दिए थे। एसडीएम के निर्देश पर पुलिस ने मामले में मुकदमा दर्ज कर लिया है।
कोतवाली निरीक्षक रवि सैनी ने बताया कि साक्षी महाराज हाल निवासी 38, जीआरएम रोड, नई दिल्ली, स्थाई निवासी मां मदालसा इंटर कॉलेज, उदितपुर, शिकोहाबाद रोड इटा, अमितेष सिंह उर्फ नंदू हाल निवासी उन्नाव, उत्तर प्रदेश और महेश चंद्र मिश्रा निवासी श्री भगवान भवन, ऋषिकेश, जिला देहरादून और 47 अज्ञात लोगों के खिलाफ आपदा प्रबंधन अधिनियम और धारा 144 के उल्लंघन से संबंधित विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज किया है।

     


काफिले के लिये यातायात रोकने को लेकर नगांव के डीसी को लगी फटकार , हिमंत बिस्व ने किया ये ट्वीट

काफिले के लिये यातायात रोकने को लेकर नगांव के डीसी को लगी फटकार ,  हिमंत बिस्व ने किया ये ट्वीट

गुवाहाटी| असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्व सरमा ने शनिवार को राष्ट्रीय राजमार्ग 127 पर अपना काफिला गुजरते समय कथित तौर पर यातायात रोकने को लेकर नगांव के उपायुक्त निसर्ग हिवारे को सार्वजनिक रूप से फटकार लगाई।

घटना की एक वीडियो क्लिप स्थानीय टीवी समाचार चैनलों पर दिखाई गई और यह वीडियो सोशल मीडिया पर भी वायरल हो गई है।

वीडियो में दिख रहा है कि सरमा राजमार्ग पर खड़ेहैं और एक बस तथा एक ट्रक उनके सामने प्रतीक्षा कर रहा है। कई अधिकारियों के साथ उनके निजी सुरक्षा अधिकारी उनके आसपास खड़े दिख रहे हैं।

वीडियो में एक समय सरमा कहते हैं, एसपी को बुलाओ इसके बाद वह कहते हैं, अरे डीसी साब, ये क्या नाटक है? क्यूं गाड़ी रुकवाई है? कोई राजा महाराजा आ रहा है क्या? जब हिवारे ने कुछ कहने की कोशिश की तो सरमा द्वारा जोर से यह कहते सुना गया: हट! ऐसा मत करो आगे।

लोगों को कष्ट हो रहा हैं। वीडियो में उपायुक्त फ्रेम से बाहर जाते हुए दिखाई दिये और मुख्यमंत्री को जोर से यह कहते हुए सुना गया, खोलो, गाड़ी जाने दो! क्लिप के सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद, सरमा ने इसे एक मीडिया अकाउंट से रीट्वीट किया और अपनी कार्रवाई का बचाव किया।

उन्होंने कहा, हम राज्य में हम एक ऐसी संस्कृति बनाना चाहते हैं, जहां डीसी, एसपी या कोई भी सरकारी कर्मचारी या जनप्रतिनिधि अपनी पृष्ठभूमि, बौद्धिक क्षमता या लोकप्रियतासे परे केवल लोगों के लिए काम करे। बाबू मानसिकता को बदलना कठिन है, लेकिन हम अपने लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए दृढ़ हैं।

जनता ही जनार्दन। सरमा स्वतंत्रता के 75 वें वर्ष के उपलक्ष्य में नगांव नगर पालिका बोर्ड द्वारा बनाए गए एक पार्क और कोलोंग नदी पर एक पुल का उद्घाटन करने के लिए नगांव जिले में थे।