निर्भया गैंगरेप : देश में दूसरी बार दी जाएगी 4 लोगों को एकसाथ फांसी

निर्भया गैंगरेप : देश में दूसरी बार दी जाएगी 4 लोगों को एकसाथ फांसी

निर्भया गैंगरेप के चारों दोषियों की फांसी एकबार फिर से सारे देश में चर्चा का विषय बनी हुई है. माना जा रहा है कि बहुत जल्द चारों को फांसी के फंदे पर लटकाया जा सकता है. चारों दोषियों को तिहाड़ कारागार में शिफ्ट किया जा चुका, जहां फांसी को लेकर कारागार प्रशासन पहले ही तैयारियां कर चुका है.

देश में दूसरी बार दी जाएगी 4 लोगों को एकसाथ फांसी

16 दिसंबर 2012 को रूह कंपा देने वाली वारदात को अंजाम देने वाले चारों दरिंदों की फांसी का समय समीप आ चुका है. दिल्ली की तिहाड़ कारागार में पहली बार व देश में दूसरी बार चार लोगों को एक साथ फांसी के फंदे पर लटकाया जाएगा. बता दें कि तिहाड़ कारागार में इससे पहले दो लोगों को एकसाथ फांसी दी जा चुकी है. 37 वर्ष पहले 31 जनवरी 1982 को गैंगरेप के ही एक मुद्दे में रंगा-बिल्ला को फांसी दी गई थी. वहीं चार लोगों को एकसाथ फांसी पुणे की यरवदा कारागार में दी जा चुकी है. ये चारों 27 नवंबर 1983 को जोशी अभयंकर केस में दोषी थे. इन्होंने 10 लोगों का कत्ल किया था. दिल्ली की तिहाड़ कारागार में आखिरी फांसी खूंखार आतंकवादी अफजल गुरू को ही दी गई थी.

निर्भया के दोषियों की फांसी की तैयारी लगभग पूरी!

तिहाड़ कारागार के सूत्रों की मानें तो कारागार प्रशासन निर्भया के दोषियों को फांसी की सजा देने की तैयारियों में जुट चुका है. फांसी के लिए जल्लाद भी खोजे जा रहे हैं. तिहाड़ की तीन नंबर बिल्डिंग में फांसी देने का कार्य किया जाता है. इस बिल्डिंग में 16 डेथ सेल बनाए गए हैं जहां फांसी की सजा पाए हुए दोषियों को रखा जाता है. इसकी सुरक्षा का जिम्मा पुलिस की स्पेशल टीम के हाथों में होता है.

ऐसे आखिरी दिन काट रहे हैं निर्भया के दोषी

- आपकी जानकारी के लिए बताते चलें कि निर्भया के चारों दरिंदों को तिहाड़ कारागार लाया जा चुका है, जहां वो अपने आखिरी दिन बिता रहे हैं. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, अपनी फांसी की खबरों को देखकर विनय, पवन गुप्ता, मुकेश व अक्षय सहमे हुए हैं. वो लगातार टीवी पर अपनी फांसी की खबरें देख रहे हैं. कारागार प्रशासन को भी इस बात की चिंता है, इसीलिए सुबह-शाम चारों दोषियों का मेडिकल कराया जा रहा है. सूत्रों का बोलना है कि पवन के तिहाड़ कारागार आने के बाद कारागार में यह अफ़वाह फैल गई है कि चारों आरोपियों को एक साथ फांसी दी जाएगी.

- कारागार सूत्रों का बोलना है कि सभी दोषियों को भिन्न भिन्न सेल में रखा गया है. इनके साथ हम आयु दो-दो कैदियों को रखा गया है. इनके साथ ऐसे कैदियों को रखा गया है जो स्वभाव से उग्र नहीं हैं व उनका व्यवहार अच्छा है. उन कैदियों को इन्हें समझाने-बुझाने के लिए बोला गया है.

- बताते चलें कि तिहाड़ में इन दिनों जहां फांसी दी जानी है उस कक्ष की सफाई चल रही है. ऐसा तभी किया जाता है जब किसी कैदी को फांसी जल्द ही लगने वाली हो. हालांकि इस पर अब भी कारागार प्रशासन कुछ भी साफ-साफ कहने से मना कर रहा है.