कोरोना : असम व मेघालय में शराब की बिक्री संबंधी आदेश लिए गए वापस

कोरोना : असम व मेघालय में शराब की बिक्री संबंधी आदेश लिए गए वापस

कोरोना लॉकडाउन पर केंद्रीय गृह मंत्रालय के नए दिशानिर्देशों के बाद असम व मेघालय में शराब की बिक्री संबंधी आदेश को वापस ले लिया गया. असम सरकार ने दो दिन पहले ही शराब के उत्पादन व बिक्री की अनुमति दी थी. केंद्रीय गृह मंत्रालय के दिशानिर्देशों में शराब निर्माण या इसकी खुदरा बिक्री को कोई छूट नहीं दी गई है.  

असम आबकारी विभाग ने बुधवार शाम को आदेश जारी कर सभी जिला उपायुक्त को प्रदेश में शराब की दुकानों, थोक गोदामों, बॉटलिंग प्लांट व डिस्टिलरी को अनिश्चित काल के लिए बंद करने के लिए कहा. वहीं, मेघालय में बीते सोमवार को शराब की दुकानें खुली थीं. बुधवार को पूर्वी खासी पर्वतीय जिले में कोविड-19 का पुष्ट मुद्दा सामने आने के बाद कर्फ्यू के चलते इस इलाके में शराब की दुकानें फिर बंद कर दी गईं. इसके बाद प्रदेश के अन्य जिलों में भी देश में विस्तारित लॉकडाउन के मद्देनजर इसी तरह के आदेश जारी कर दिए गए.

कर्नाटक में चार समूह गठित 
कनार्टक सरकार ने मंत्री समूहों की मीटिंग में बुधवार को मंत्रियों के चार समूह गठित किए, जिसका उद्देश्य लॉकडाउन के दौरान आवश्यक सामानों की आपूर्ति को बनाए रखना है. येदियुरप्पा के साथ हुई मीटिंग में शीर्ष मंत्रियों व प्रत्येक समूह को निर्दिष्ट किया गया कि आपूर्ति श्रृंखला को मजबूत किया जाए. किसानों की समस्याओं पर मीटिंग में खास चर्चा की गई. इसके साथ ही कोरोना वायरस से निपटने के लिए ठोस रणनीति बनाई गई. 

 तेलंगाना में एग्जिट प्लान बनेगा  
तेलंगाना सरकार ने लॉकडाउन पर केंद्रीय गृह मंत्रालय के नए दिशानिर्देशों के बाद आईटी कंपनियों के लिए लॉकडाउन एग्जिट प्लान तैयार करने को बोला है. आईटी व उद्योग मंत्री के टी रामा राव ने बोला इस दिशा में ठोस रणनीति बनाई जा रही है. 

छत्तीसगढ़ सरकार पूल टेस्टिंग विधि का सहारा लेगी
रायपुर । छत्तीसगढ़ सरकार कोरोना वायरस संक्रमण का पता लगाने के लिए नमूनों की जाँच में तेजी लाने के वास्ते पूल टेस्टिंग विधि का सहारा लेगी. इससे अधिक संख्या में जाँच करने में सहायता मिलेगी. इस प्रक्रिया में एक ही जाँच में पांच नमूनों की जाँच की जाती है. 
छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने बुधवार को बताया कि भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) से कोविड-19 जाँच की संख्या बढ़ाने के लिए पूल टेस्टिंग विधि की अनुमति मिल गई है. सिंहदेव ने बताया कि रायपुर स्थित अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान व डाक्टर भीमराव आंबेडकर अस्पताल में यह जाँच की जाएगी. इसे जगदलपुर में भी प्रारम्भ करने की प्रयास की जाएगी.