निर्भया के दोषी चल रहे है बचने के चल, पर हो रहे है हर बार नाकाम

 निर्भया के दोषी चल रहे है बचने के चल, पर हो रहे है हर बार नाकाम

दोषियों को एक बार फिर न्यायालय से राहत नहीं मिली है। दिल्ली की पटियाला हाउस न्यायालय ने शनिवार को आदेश में बोला कि कारागार प्रशासन की तरफ से सभी दस्तावेज दिए जा चुके है व ऐसे में किसी भी प्रकार के आदेश की आवश्यकता नहीं है। इसके साथ दोषियों के एडवोकेट एपी सिंह की ओर से दायर अर्जी का न्यायालय ने निपटारा भी कर दिया।

दरअसल, दो दोषियों ने अर्जी में बोला था कि कारागार प्रशासन ने उन्हें दस्तावेज नहीं दिए। दोषियों की याचिका पर सुनवाई के दौरान कारागार प्रसाशन की तरफ से न्यायालय कोर्ट बताया गया कि दोषियों की तरफ से मांगे गए दस्तावेज उनको दे दिए गए है। तिहाड़ कारागार प्रशासन ने न्यायालय में बोला कि निर्भया के दोषी जानबूझकर इस मुद्दे में देरी करना चाहते है व उनकी ये याचिका महज़ एक "देरी कराने की चाल" है व कुछ नहीं, क्योंकि दस्तावेज उन्हें पहले ही दिए जा चुके है।

उधर, तिहाड़ कारागार सूत्रों के मुताबिक निर्भया के दोषियों के परिवार वालों को तिहाड़ कारागार प्रशासन ने लेटर लिखा था। अपने लेटर में लिखा था कि दोषियों को 1 फ़रवरी की प्रातः काल 6 बजे फांसी पर लटकाया जाएगा। उससे पहले अगर कोई परिवार का मेम्बर या सम्बन्धी दोषियों से अंतिम मुलाकात करना चाहता है तो कर सकता है। निर्भया के चारों गुनहगारों की अंतिम इच्‍छा का तिहाड़ कारागार प्रशासन को अभी भी इंतजार है। सूत्रों के मुताबिक दोषियों ने अभी तक अपनी अंतिम इच्‍छा नहीं बताई है।