हैदराबाद गैंगरेप : क्या आया है DNA की रिपोर्ट में, जानने के लिए पढ़े पूरी खबर

हैदराबाद गैंगरेप : क्या आया है DNA की रिपोर्ट में, जानने के लिए पढ़े पूरी खबर

 तेलंगाना की राजधानी हैदराबाद में महिला वेटनरी चिकित्सक (Veterinary Doctor) से गैंगरेप के बाद मर्डर व फिर डेड बॉडी को जला देने की घटना ने देश को हिला कर रख दिया है। घटना के नौ दिनों के अंदर ही चारों आरोपियों की पुलिस एनकाउंटर में मृत्यु हो गई। कई लोग इस एनकाउंटर पर सवाल उठा रहे हैं। अब इस मुद्दे में महिला चिकित्सक की जली हुई बॉडी की DNA रिपोर्ट आ गई है। रिपोर्ट के मुताबिक ये DNA चिकित्सक के परिवारवालों से मैच कर गया है।

क्या है DNA रिपोर्ट में
अंग्रेजी अखबार के मुताबिक गुरुवार को महिला वेटनरी चिकित्सक की DNA रिपोर्ट आ गई . रिपोर्ट आने के बाद ये साबित हो गया है कि जली हुई बॉडी महिला चिकित्सक की ही थी व ये उनके परिवारवालों से मैच भी कर गया है। DNA जाँच से इस बात की भी पुष्टि हो गई है कि घटना स्थल पर पाए गए सेमिनल के दाग (Seminal Stains) चार आरोपियों के ही थे। महिला चिकित्सक की बॉडी की हड्डियों को DNA जाँच के लिए भेजा गया था। इसके अतिरिक्त पीड़िता के कपड़ों से सेमिनल सैंपल लिए गए थे। बोला जा रहा है कि जाँच अधिकारियों को कुछ व रिपोर्ट का इंतज़ार है।

क्या हुआ था उस रात?

हैदराबाद के साइबराबाद टोल प्लाजा के पास एक महिला की अधजली डेड बॉडी मिली थी। महिला की पहचान एक वेटनरी चिकित्सक के तौर पर हुई थी। पुलिस के मुताबिक, महिला की गैंगरेप के बाद मर्डर की गई, फिर डेड बॉडी को पेट्रोल से जलाकर फ्लाईओवर के नीचे फेंक दिया गया। वारदात में शामिल चारों आरोपियों की पहचान मोहम्मद पाशा, नवीन, चिंताकुंता केशावुलु व शिवा के तौर पर हुई थी।

ऐसे हुआ एनकाउंटर
तेलंगाना पुलिस ने  बोला कि दो आरोपियों ने हथियार छीनने के बाद पुलिस पर गोलियां चलायीं, जिसके बाद पुलिस ने ‘जवाबी’ गोलीबारी की। साइबराबाद पुलिस आयुक्त सी वी सज्जनार ने बताया कि आरोपियों में एक मोहम्मद आरिफ ने सबसे पहले गोली चलायी। इसके बाद पुलिस को गोली चलानी पड़ी व चारो आरोपी एनकाउंटर में ढेर हो गया।

जांज के आदेश
सुप्रीम न्यायालय ने हैदराबाद में महिला चिकित्सक से गैंगरेप-मर्डर के बाद हुए चार आरोपियों के पुलिस एनकाउंटर मुद्दे में तीन सदस्यीय न्यायिक जाँच आयोग का गठन किया है। उच्चतम न्यायालय के पूर्व जज वीएस सिरपुरकर इसके प्रमुख होंगे। बॉम्बे उच्च न्यायालय की पूर्व जज रेखा बालदोता व पूर्व CBI डायरेक्टर कार्तिकेन भी इस आयोग के मेम्बर बनाए गए हैं। शीर्ष न्यायालय ने आयोग को अपनी रिपोर्ट छह महीने में देने को बोला है।