डीसीजीआइ डाक्टर वीजी सोमानी ने राज्यों व केन्द्र शासित प्रदेशों के औषधि नियंत्रकों को लिखा यह बड़ा लेटर 

डीसीजीआइ डाक्टर वीजी सोमानी ने राज्यों व केन्द्र शासित प्रदेशों के औषधि नियंत्रकों को लिखा यह बड़ा लेटर 

 भारतीय औषधि महानियंत्रक (डीसीजीआइ) ने राज्यों व केन्द्र शासित प्रदेशों के औषधि नियंत्रकों से बोला है कि वे एंटी वायरल दवा रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी रोकने के लिए कड़ी निगरानी करें. 

यह दवा कोविड-19 के मरीजों के उपचार में आपात व सीमित उपयोग के लिए स्वीकृत की गई है.डीसीजीआइ डाक्टर वीजी सोमानी ने राज्यों व केन्द्र शासित प्रदेशों के औषधि नियंत्रकों को लिखे लेटर में बोला है कि उनके ऑफिस को एक लेटर मिला है जिसमें कुछ अवांछित तत्वों के रेमडेसिविर की कालाबाजारी में संलिप्त होने पर चिंता जाहीर की गई है.

उनका बोलना है कि स्वास्थ्य मंत्रालय के जरिये उन्हें सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म लोकलसर्किल्स से शिकायत प्राप्त हुई है. लोकलसर्किल्स का बोलना है कि हीटेरो हेल्थकेयर लिमिटेड की रेमडेसिविर की एमआरपी 5,400 रुपये है, लेकिन उपभोक्ताओं का बोलना है कि इसे 16 हजार रुपये से 60 हजार रुपये के बीच बेचा जा रहा है. इसके पीछे दवा की कम आपूर्ति होने का तर्क दिया जा रहा है. डाक्टर सोमानी ने इस विषय में तत्काल कार्रवाई रिपोर्ट तलब की है.