कमांडर स्‍तर की वार्ता: चीन की पहल पर 15 दिसंबर के बाद हो सकती है 14वें दौर की बैठक

कमांडर स्‍तर की वार्ता: चीन की पहल पर 15 दिसंबर के बाद हो सकती है 14वें दौर की बैठक

भारत-चीन (India-China) के बीच वास्विक नियंत्रण रेखा (LAC) पर जारी गतिरोध को दूर करने के लिए 14वें दौर की कमांडर स्तर की वार्ता ( 14th round Corps Commander-level talks) 15 दिसंबर के बाद होने की संभावना है. न्यूज एजेंसी एएनआई को सरकारी सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक 14वें दौर बातचीत के लिए चीन (China) की तरफ से आमंत्रण आना है. ऐसे माना जा रहा है कि ये बातचीत 15 दिसंबर के बाद कभी भी हो सकती है.

सूत्रों के मुताबिक भारत के लिए समय ठीक रहेगा क्योंकि सशस्त्र बल 16 दिसबंर तक 1971 में पाकिस्तान की हार और भारतीय सेना की जीत की स्वर्ण जयंती मनाएंगे. भारत-चीन सीमा पर गतिरोध खत्म करने के लिए पूर्वी लद्दाख क्षेत्र में एलएसी पर बातचीत कर रहे हैं. अब तक दोनों देशों के बीच 13 दौर तक की वार्ता हो चुकी है.

हॉट स्प्रिंग्स को लेकर जारी गतिरोध का हल निकालने की कोशिश

दोनों देशों के बीच अब तक हुई सैन्य बातचीत में पैंगोंग झील और गोगरा हाइट्स के किनारे वाले फ्रिक्शन पॉइंट के गतिरोध को हल कर लिया गया है. हालांकि हॉट स्प्रिंग्स को लेकर जारी गतिरोध का समधाना निकाला जाना बाकी है. ऐसे में दोनों देश अब इस पर हल निकालना चाहते हैं.

हाल ही में हुई थी पूर्वी लद्दाख पर भारत-चीन की राजनयिक चर्चा

वहीं कुछ समय पहले ही भारत-चीन सीमा मामलों (WMCC) पर परामर्श और समन्वय के लिए राजनयिक बातचीत हुई थी. चर्चा के दौरान दोनों पक्षों ने किसी तरह की अप्रिय घटना को अंजाम नहीं देने का वादा किया.

विदेश मंत्रालय ने पूर्वी लद्दाख पर भारत-चीन राजनयिक चर्चा के बारे में बताया कि दोनों पक्षों ने पश्चिमी सेक्टर में वास्तविक नियंत्रण रेखा के हालात पर विस्तृत और स्पष्ट तरीके से बातचीत की. पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा पर लंबित मुद्दों के जल्द समाधान की जरूरत पर दोनों पक्षों की तरफ से सहमति जताई गई है. साथ ही, इसी साल 10 अक्‍टूबर को हुई दोनों पक्षों के वरिष्ठ कमांडरों की बैठक के बाद के घटनाक्रम की भी समीक्षा की गई.


काफिले के लिये यातायात रोकने को लेकर नगांव के डीसी को लगी फटकार , हिमंत बिस्व ने किया ये ट्वीट

काफिले के लिये यातायात रोकने को लेकर नगांव के डीसी को लगी फटकार ,  हिमंत बिस्व ने किया ये ट्वीट

गुवाहाटी| असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्व सरमा ने शनिवार को राष्ट्रीय राजमार्ग 127 पर अपना काफिला गुजरते समय कथित तौर पर यातायात रोकने को लेकर नगांव के उपायुक्त निसर्ग हिवारे को सार्वजनिक रूप से फटकार लगाई।

घटना की एक वीडियो क्लिप स्थानीय टीवी समाचार चैनलों पर दिखाई गई और यह वीडियो सोशल मीडिया पर भी वायरल हो गई है।

वीडियो में दिख रहा है कि सरमा राजमार्ग पर खड़ेहैं और एक बस तथा एक ट्रक उनके सामने प्रतीक्षा कर रहा है। कई अधिकारियों के साथ उनके निजी सुरक्षा अधिकारी उनके आसपास खड़े दिख रहे हैं।

वीडियो में एक समय सरमा कहते हैं, एसपी को बुलाओ इसके बाद वह कहते हैं, अरे डीसी साब, ये क्या नाटक है? क्यूं गाड़ी रुकवाई है? कोई राजा महाराजा आ रहा है क्या? जब हिवारे ने कुछ कहने की कोशिश की तो सरमा द्वारा जोर से यह कहते सुना गया: हट! ऐसा मत करो आगे।

लोगों को कष्ट हो रहा हैं। वीडियो में उपायुक्त फ्रेम से बाहर जाते हुए दिखाई दिये और मुख्यमंत्री को जोर से यह कहते हुए सुना गया, खोलो, गाड़ी जाने दो! क्लिप के सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद, सरमा ने इसे एक मीडिया अकाउंट से रीट्वीट किया और अपनी कार्रवाई का बचाव किया।

उन्होंने कहा, हम राज्य में हम एक ऐसी संस्कृति बनाना चाहते हैं, जहां डीसी, एसपी या कोई भी सरकारी कर्मचारी या जनप्रतिनिधि अपनी पृष्ठभूमि, बौद्धिक क्षमता या लोकप्रियतासे परे केवल लोगों के लिए काम करे। बाबू मानसिकता को बदलना कठिन है, लेकिन हम अपने लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए दृढ़ हैं।

जनता ही जनार्दन। सरमा स्वतंत्रता के 75 वें वर्ष के उपलक्ष्य में नगांव नगर पालिका बोर्ड द्वारा बनाए गए एक पार्क और कोलोंग नदी पर एक पुल का उद्घाटन करने के लिए नगांव जिले में थे।