सीएम नीतीश ने कहा कि बिहार में बीते 15 वर्ष में 38 इंजीनियरिंग और 31 पाॅलिटेक्निक कॉलेज खोले गए

सीएम नीतीश ने कहा कि बिहार में बीते 15 वर्ष में 38 इंजीनियरिंग और 31 पाॅलिटेक्निक कॉलेज खोले गए

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार प्रदेश के युवाओं को बेहतर एजुकेशन देने के लिए लगातार नए कॉलेज के निर्माण और प्रारम्भ करने पर जोर दे रहे हैं इस बीच मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने ट्वीट कर बताया कि उनके मुख्यमंत्री बनने से पहले प्रदेश में इंजीनियरिंग और पॉलीटेक्निक के कितने कॉलेज थे और अब कितने कॉलेज को उन्होंने प्रारम्भ किया है

सीएम नीतीश कुमार ने बोला कि वर्ष 1954 से 2005 तक प्रदेश में कुल 3 अभियंत्रण महाविद्यालय और 13 सरकारी पाॅलिटेक्निक संस्थान थे उन्होंने बोला कि इन संस्थानों में इनकी प्रवेश क्षमता क्रमश: लगभग 800 एवं 3840 थी  

सीएम ने बोला कि देश के पुराने अभियंत्रण महाविद्यालयों में से एक बिहार काॅलेज ऑफ इंजीनियरिंग, पटना को केंद्र में रहते हुए उन्होंने साल 2004 में NIT (National Institute of Technology) में परिवर्तित कराया था

यही नहीं प्रदेश के युवाओं को तकनीक की एजुकेशन लेने के लिए बाहर ना जाना पड़े इसके लिए उन्होंने पिछले 15 वर्ष में 38 अभियंत्रण महाविद्यालयों तथा 31 पाॅलिटेक्निक संस्थानों की स्थापना की है सीएम ने बोला कि अब इन संस्थानों में विद्यार्थियों की प्रवेश क्षमता क्रमश: 9975 और 11,332 हो गई है

साथ ही नीतीश कुमार ने बोला कि अब प्रदेश के हर जिले में कम से कम एक अभियंत्रण संस्थान स्थापित है उनके अनुसार, उच्च तकनीकी एजुकेशन में विकास का कोशिश आगे भी जारी रहेगा


कैसे डोनाल्ड ट्रंप को दी गई दवा कोविड-19 के मरीजों में जगा रही है उम्मीद?

कैसे डोनाल्ड ट्रंप को दी गई दवा कोविड-19 के मरीजों में जगा रही है उम्मीद?

नई दिल्ली   कोविड-19 के इलाज़ के लिए दुनिया में इस समय कोई खास दवाई नहीं है ऐसे में दूसरी रोंगों में इस्तेमाल होने वाली दवाईयां ही इस्तेमाल के तौर कोविड-19 के मरीजों को दी जाती है इसी कड़ी में इन दिनों 'एंटीबॉडी कॉकटेल' (Antibody Cocktail) की चर्चा है वो दवा जिसे पिछले वर्ष अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को दी गई थी अब हिंदुस्तान में भी ये 'एंटीबॉडी कॉकटेल' कई हॉस्पिटल ों में कोविड-19 के मरीजों को दी जा रही है खास बात ये है कि हिंदुस्तान में इस कॉकटेल के अच्छे नतीजे आ रहे हैं दिल्ली के सर गंगाराम हॉस्पिटल में जिन मरीजों को ये कॉकटेल दी गई उन्हें उपचार के कुछ ही घंटे के बाद हॉस्पिटल से छुट्टी मिल गई

पिछले वर्ष चुनाव प्रचार के दौरान ट्रंप कोविड-19 से संक्रमित हो गए थे उन्हें हॉस्पिटल में भर्ती करना पड़ा था इसी दौरान उन्हें इस्तेमाल के तौर पर एंटीबॉडी कॉकटेल दी गई थी उस उक्त न्यूयॉर्क टाइम्स ने लिखा था कि आने वाले दिनों में ये कोविड-19 के संक्रमण को रोकने में असरदार हथियार साबित हो सकता है

ट्रंप में क्या-क्या थे लक्षण, कौन-कौन सी दी गई दवाईयां?

डोनाल्ड ट्रंप को हल्का बुखार और नाक में कंजेशन था आयु और भारी वजन के चलते वो कोविड-19 के हाई रिस्क मरीज़ थे बोला जाता है कि हॉस्पिटल में उन्हें कम से कम दो बार ऑक्सिजन की आवश्यकता पड़ी इसी दौरान उन्हें एंटीबॉडी कॉकटेल की डोज़ दी गई इसके अतिरिक्त उन्हें रेमडेसिवीर की इंजेक्शन लगाई गई साथ ही उन्हें डेक्सामेथासोन की टैबलेट भी दी गई