सुप्रीम न्यायालय के दखल के बाद बदली टीका नीति? केन्द्र बोला...

सुप्रीम न्यायालय के दखल के बाद बदली टीका नीति? केन्द्र बोला...

सरकार ने मंगलवार को बोला कि वह एक मई को आरंभ के बाद से ही टीकाकरण के विकेन्द्रीकृत मॉडल के कार्यान्वयन का मूल्यांकन कर रही थी और इसे फिर से केंद्रीकृत करने का निर्णय कुछ राज्यों के निवेदन पर विस्तृत विचार-विमर्श के बाद किया गया. सरकार की यह टिप्पणी विपक्ष के उन दावों के बीच आई है कि सुप्रीम कोर्ट के हस्तक्षेप के कारण नीति में परिवर्तन किया गया.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को घोषणा की थी कि केन्द्र राज्यों के खरीद कोटे को अपने हाथों में ले लेगा और 18 वर्ष से अधिक आयु वर्ग के लोगों के लिए राज्यों को टीके मुफ्त मौजूद कराए जाएंगे.

यह पूछे जाने पर कि क्या नए टीकाकरण दिशानिर्देश सुप्रीम कोर्ट के हस्तक्षेप के बाद जारी किए गए थे, नीति आयोग के मेम्बर (स्वास्थ्य) वी के पॉल ने कहा, "हम सुप्रीम कोर्ट के मार्गदर्शन और चिंता का सम्मान करते हैं, लेकिन सरकार एक मई से विकेंद्रीकृत मॉडल के कार्यान्वयन का मूल्यांकन कर रही थी."

पॉल ने बोला कि पिछले एक महीने के दौरान महाराष्ट्र, केरल, सिक्किम, राजस्थान, झारखंड, ओडिशा और आंध्र प्रदेश सहित 12 राज्यों ने निवेदन किया कि टीकों की केंद्रीकृत खरीद होनी चाहिए ताकि प्रोग्राम का कार्यान्वयन ठोस ढंग से हो सके. पॉल ने बोला कि इस तरह के निर्णय 'रातोंरात' नहीं किए जाते हैं और नए दिशानिर्देश विभिन्न पक्षों के साथ विमर्श, विश्लेषण, प्रतिक्रिया और अनुभव पर आधारित हैं.

पॉल ने नए दिशानिर्देशों की चर्चा करते हुए बोला कि प्रदेश प्रोग्राम को लागू करने और खरीद में शामिल होना चाहते थे और अहमियत समूहों के विषय में लचीलापन भी रखते थे. उन्होंने कहा, ‘इस बात को ध्यान में रखते हुए टीकाकरण की गति को बढ़ाने के लिए एक प्रणाली बनाई गई और उसके अनुसार मई में यह तय किया गया कि 50 फीसदी टीके केन्द्र की तरफ से खरीदे जाएंगे जबकि 50 फीसदी की खरीद प्रदेश और निजी क्षेत्र की तरफ से की जाएगी.’ उन्होंने भरोसा दिया कि नए दिशानिर्देश टीकाकरण प्रोग्राम को आगे बढ़ाने में अहम होंगे.

महामारी की स्थिति को लेकर पॉल ने बोला कि नए मामलों में गिरावट अनुशासन और सामाजिक व्यवहार के कारण है. उन्होंने बोला कि अनुशासन केन्द्र और प्रदेश और लोकल सरकार सभी स्तरों पर है. अब हम एक अहम दौर से गुजरेंगे क्योंकि प्रतिबंधों में धीरे-धीरे ढील दी जाती है ताकि फिर से मुद्दे नहीं बढ़ें इसलिए हमें कोविड संबंधी उपयुक्त व्यवहार का पालन करने की जरूरत है.

स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने बोला कि सात मई को चरम स्तर पर पहुंचने के बाद से दैनिक नए मामलों में करीब 79 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई है. उन्होंने कोविड की दूसरी लहर के विषय में बोला कि दैनिक नए मामलों में लगातार और तेजी से गिरावट आई है.


अग्रवाल ने बोला कि हिंदुस्तान में प्रति दस लाख आबादी पर कोविड-19 वायरस के 20,822 मुद्दे आए और 252 मौतें हुई हैं जो दुनिया में सबसे कम आंकड़ों में से एक है. भविष्य में कोविड-19 की किसी और लहर को रोकने के लिए सरकार ने आबादी का टीकाकरण होने तक कोविड संबंधी उपयुक्त व्यवहार का पालन करने पर जोर दिया.

सरकार ने कुछ महीनों के लिए भीड़ की स्थिति से बचने की आवश्यकता पर भी बल दिया. हालांकि कुछ राज्यों ने नए मामलों की घटती संख्या को देखते हुए लॉकडाउन में ढील की घोषणा की है.

एम्स के निदेशक रणदीप गुलेरिया ने कहा, "हमें कोविड संबंधी उपयुक्त व्यवहार का उस समय तक पालन करते रहने की आवश्यकता है जब तक कि हम यह नहीं कह सकते कि हमारी आबादी के एक जरूरी हिस्से का टीकाकरण हो गया हो. जब पर्याप्त लोगों को टीका लग जाएगा तो प्राकृतिक प्रतिरक्षा विकसित हो जाएगी और ये लहरें रुक जाएंगी."

उन्होंने आगे बोला कि ऐसा कोई आंकड़ा या सबूत नहीं है जिससे यह पता लगता हो कि कि यदि कोविड की अगली लहर आती है तो यह बच्चों को अधिक प्रभावित करेगा.


कैसे डोनाल्ड ट्रंप को दी गई दवा कोविड-19 के मरीजों में जगा रही है उम्मीद?

कैसे डोनाल्ड ट्रंप को दी गई दवा कोविड-19 के मरीजों में जगा रही है उम्मीद?

नई दिल्ली   कोविड-19 के इलाज़ के लिए दुनिया में इस समय कोई खास दवाई नहीं है ऐसे में दूसरी रोंगों में इस्तेमाल होने वाली दवाईयां ही इस्तेमाल के तौर कोविड-19 के मरीजों को दी जाती है इसी कड़ी में इन दिनों 'एंटीबॉडी कॉकटेल' (Antibody Cocktail) की चर्चा है वो दवा जिसे पिछले वर्ष अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को दी गई थी अब हिंदुस्तान में भी ये 'एंटीबॉडी कॉकटेल' कई हॉस्पिटल ों में कोविड-19 के मरीजों को दी जा रही है खास बात ये है कि हिंदुस्तान में इस कॉकटेल के अच्छे नतीजे आ रहे हैं दिल्ली के सर गंगाराम हॉस्पिटल में जिन मरीजों को ये कॉकटेल दी गई उन्हें उपचार के कुछ ही घंटे के बाद हॉस्पिटल से छुट्टी मिल गई

पिछले वर्ष चुनाव प्रचार के दौरान ट्रंप कोविड-19 से संक्रमित हो गए थे उन्हें हॉस्पिटल में भर्ती करना पड़ा था इसी दौरान उन्हें इस्तेमाल के तौर पर एंटीबॉडी कॉकटेल दी गई थी उस उक्त न्यूयॉर्क टाइम्स ने लिखा था कि आने वाले दिनों में ये कोविड-19 के संक्रमण को रोकने में असरदार हथियार साबित हो सकता है

ट्रंप में क्या-क्या थे लक्षण, कौन-कौन सी दी गई दवाईयां?

डोनाल्ड ट्रंप को हल्का बुखार और नाक में कंजेशन था आयु और भारी वजन के चलते वो कोविड-19 के हाई रिस्क मरीज़ थे बोला जाता है कि हॉस्पिटल में उन्हें कम से कम दो बार ऑक्सिजन की आवश्यकता पड़ी इसी दौरान उन्हें एंटीबॉडी कॉकटेल की डोज़ दी गई इसके अतिरिक्त उन्हें रेमडेसिवीर की इंजेक्शन लगाई गई साथ ही उन्हें डेक्सामेथासोन की टैबलेट भी दी गई