चाचा विधायक हैं हमारे इन रौबदारों के फेर में न पड़ें, नहीं तो...

चाचा विधायक हैं हमारे इन रौबदारों के फेर में न पड़ें, नहीं तो...

कोविड-19 महामारी से पूरा विश्व जूझ रहा है. इससे बचाव के लिए मास्क और सोशल डिस्टेसिंग बहुत महत्वपूर्ण है. कुछ लोग बखूबी इसका पालन कर रहे हैं. साथ ही लोगों से अपील कर रहे हैं कि आप पालन करें. वहीं, कुछ ऐसे ही भी हैं, रौब झाड़ रहे हैं और सड़कों पर बखेड़ा खड़ा कर रहे हैं. कोविड-19 से आपको बचाने के लिए सड़कों पर मुस्तैद जवानों से बदसलूकी कर रहे हैं. ऐसे लोगों के चक्कर में पड़ेंगे तो आपको लेने के देने पड़ जाएंगे. कोविड-19 काल में उन लोगों से जरूर सीखें, जो अपनी जान दांव पर लगाकर सेवा कर रहे हैं. साथ ही आपसे मास्क पहनने की अपील कर रहे हैं. इन लोगों में देश के हजारों पुलिस अधिकारी और जवान शामिल हैं.


कोविड-19 काल में देश के हिस्सों से अजीबोगरीब वीडियो सामने आ रहे हैं. कोविड नियमों का पालन नहीं करने वाले लोग पुलिसवालों और डॉक्टरों पर रौब झाड़ रहे हैं. साथ ही उल्टे-सीधे ज्ञान दे रहे हैं. वहीं, कुछ लोग ऐसे भी हैं, जो आपकी जीवन को बचाने के लिए अपनी जान दांव पर लगा रहे हैं.


कोविड-19 महामारी से पूरा विश्व जूझ रहा है. इससे बचाव के लिए मास्क और सोशल डिस्टेसिंग बहुत महत्वपूर्ण है. कुछ लोग बखूबी इसका पालन कर रहे हैं. साथ ही लोगों से अपील कर रहे हैं कि आप पालन करें. वहीं, कुछ ऐसे ही भी हैं, रौब झाड़ रहे हैं और सड़कों पर बखेड़ा खड़ा कर रहे हैं. कोविड-19 से आपको बचाने के लिए सड़कों पर मुस्तैद जवानों से बदसलूकी कर रहे हैं. ऐसे लोगों के चक्कर में पड़ेंगे तो आपको लेने के देने पड़ जाएंगे. कोविड-19 काल में उन लोगों से जरूर सीखें, जो अपनी जान दांव पर लगाकर सेवा कर रहे हैं. साथ ही आपसे मास्क पहनने की अपील कर रहे हैं. इन लोगों में देश के हजारों पुलिस अधिकारी और जवान शामिल हैं.

शहर-शहर बखेड़ा खड़ा कर रहे लोग

एमपी-छत्तीसगढ़ समेत देश के कई शहरों से ऐसे मुद्दे सामने आए हैं, जिसमें रौबदार लोग पुलिस के साथ मास्क नहीं पहनने को लेकर रौब झाड़ते नजर आए हैं. एमपी के रीवा जिले में एक लड़की मास्क न पहनने पर रोकने के लिए पुलिस से लड़ गई. साथ ही दूसरे न पहनने वाले लोगों का उदाहरण देने लगी. रायपुर में मेयर का भतीजा मास्क के लिए रोकने पर सस्पेंड कराने की धमकी दे रहा था. तो जबलपुर में पूर्व वित्त मंत्री मास्क के लिए महिला पुलिसकर्मी से भिड़ गए. वहीं, दिल्ली में भी एक कपल पुलिसवालों से मास्क के लिए उलझ गया था. ऐसे लोगों की नकल आप करेंगे तो आपको भारी पड़ सकता है. घरों से निकलने से पहले आप हमेशा मास्क पहनें और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें.


कैसे डोनाल्ड ट्रंप को दी गई दवा कोविड-19 के मरीजों में जगा रही है उम्मीद?

कैसे डोनाल्ड ट्रंप को दी गई दवा कोविड-19 के मरीजों में जगा रही है उम्मीद?

नई दिल्ली   कोविड-19 के इलाज़ के लिए दुनिया में इस समय कोई खास दवाई नहीं है ऐसे में दूसरी रोंगों में इस्तेमाल होने वाली दवाईयां ही इस्तेमाल के तौर कोविड-19 के मरीजों को दी जाती है इसी कड़ी में इन दिनों 'एंटीबॉडी कॉकटेल' (Antibody Cocktail) की चर्चा है वो दवा जिसे पिछले वर्ष अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को दी गई थी अब हिंदुस्तान में भी ये 'एंटीबॉडी कॉकटेल' कई हॉस्पिटल ों में कोविड-19 के मरीजों को दी जा रही है खास बात ये है कि हिंदुस्तान में इस कॉकटेल के अच्छे नतीजे आ रहे हैं दिल्ली के सर गंगाराम हॉस्पिटल में जिन मरीजों को ये कॉकटेल दी गई उन्हें उपचार के कुछ ही घंटे के बाद हॉस्पिटल से छुट्टी मिल गई

पिछले वर्ष चुनाव प्रचार के दौरान ट्रंप कोविड-19 से संक्रमित हो गए थे उन्हें हॉस्पिटल में भर्ती करना पड़ा था इसी दौरान उन्हें इस्तेमाल के तौर पर एंटीबॉडी कॉकटेल दी गई थी उस उक्त न्यूयॉर्क टाइम्स ने लिखा था कि आने वाले दिनों में ये कोविड-19 के संक्रमण को रोकने में असरदार हथियार साबित हो सकता है

ट्रंप में क्या-क्या थे लक्षण, कौन-कौन सी दी गई दवाईयां?

डोनाल्ड ट्रंप को हल्का बुखार और नाक में कंजेशन था आयु और भारी वजन के चलते वो कोविड-19 के हाई रिस्क मरीज़ थे बोला जाता है कि हॉस्पिटल में उन्हें कम से कम दो बार ऑक्सिजन की आवश्यकता पड़ी इसी दौरान उन्हें एंटीबॉडी कॉकटेल की डोज़ दी गई इसके अतिरिक्त उन्हें रेमडेसिवीर की इंजेक्शन लगाई गई साथ ही उन्हें डेक्सामेथासोन की टैबलेट भी दी गई