बीजेपी नेता रूपा गांगुली ने शेयर किया यह वाक्या

बीजेपी नेता रूपा गांगुली ने शेयर किया यह वाक्या

देश की संसद के दोनों सदनों में पास हुए नागरिकता संशोधन विधेयक को लेकर सियासी संग्राम प्रारम्भ हो गया है। इस तल्ख़ बहस के बीच राज्‍यसभा सांसद व पश्चिम बंगाल से बीजेपी नेता रूपा गांगुली ने एक हैरतअंगेज़ वाकया शेयर किया है। रूपा गांगुली ने बताया है कि जब वह पश्चिम बंगाल के दिनाजपुर में सातवीं कक्षा में पढ़ रही थीं, उस वक़्त उन्‍हें व उनकी मां को बुर्के में अपनी जान बचाने के लिए भागना पड़ा था।

अभिनेत्री से नेता बनीं रूपा गांगुली ने बताया है कि कुछ लोग उनका किडनैपिंग करने के लिए आए थे व यदि वह ऐसा नहीं करतीं तो व‍ह 'खान टाइगर' की बेगम बन जातीं। रूपा गांगुली ने केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह के संसद में दिए सम्बोधन के जवाब में बोला कि, 'काश मैं कह पाती। मैंने खुद क्या झेला हैं। मैं तो खान टाइगर की बेगम बन जाती जो मेरा किडनैपिंग करने के लिए आए थे। यदि उस रात मैं व मेरी मां बुर्के में भाग नहीं पाती दिनाजपुर से। मैं कक्षा 7 में पढ़ती थी। अमित शाह आपको क्‍या बताऊं। आज आप व नरेंद्र मोदी को कितने लोगों के आशीर्वाद मिला हैं। '

भाजपा नेता रूपा गांगुली ने बोला कि, 'हम कहां जाएंगे, यदि हिंदुस्तान हमें स्थान न दे? कोई क्‍यों नहीं सोचेगा? हम कितनी दफा बेघर होंगे? मेरे पिता को उनके देश में, कभी नारायणगंज, कभी ढाका, कभी दिनाजपुर में। हम कितनी बार अपने घरों को बदलते रहेंगे? हमें कितनी बार एक शरणार्थी का ज़िंदगी जीना पड़ेगा? नागरिकता संशोधन विधेयक 2019 का धन्‍यवाद।