राजस्थानी भाषा की मान्यता के लिये तेज हुआ संघर्ष, लिया ये संकल्प

राजस्थानी भाषा की मान्यता के लिये तेज हुआ संघर्ष, लिया ये संकल्प

राजस्थानी भाषा (Rajasthani language) की मान्यता की मांग को लेकर संघर्ष लगातार तेज होता जा रहा है राजस्थानी भाषा की मान्यता की मांग को लेकर अंतर्राष्ट्रीय मातृभाषा दिवस पर रविवार को मायड़ भाषा संघर्ष समिति ने पीएम नरेन्द्र मोदी (PM Narendra Modi) के अतिरिक्त राजस्थान के सभी 25 सांसदों को पत्र लिखा है समिति ने संकल्प लिया है कि जब तक राजस्थानी भाषा को मान्यता नहीं मिल जाती तब तक वह नियमित रूप से सक्रिय रहेगी इसके लिये अलग-अलगे उपायों से आंदोलन भी किया जायेगा

मायड़ भाषा संघर्ष समिति ने देश के पीएम नरेंद्र मोदी और राजस्थान प्रदेश के सभी 25 सांसदों को राजस्थानी भाषा में पत्र भेज कर जल्द से जल्द इसे मान्यता दिलवाने का आग्रह किया है मायड़ भाषा संघर्ष समिति की अध्यक्ष तरनीजा मोहन राठौड़ और उनकी टीम ने सभी सांसदों को भिन्न-भिन्न पत्र लिखा है समिति की टीम ने सामूहिक रूप से हस्ताक्षर करके राजस्थानी भाषा में इस पत्र को भेजा है

लंबे समय से संघर्ष किया जा रहा है
मायड़ भाषा संघर्ष समिति की अध्यक्ष तरनीजा मोहन राठौड़ ने बताया कि करीब सात करोड़ लोगों द्वारा बोली जाने वाली राजस्थानी भाषा को संविधान की आठवीं अनुसूची में अभी तक शामिल नहीं किया गया है इसको लेकर लंबे समय से संघर्ष किया जा रहा है लेकिन अभी भी राजस्थानी भाषा का मामला आगे नहीं बढ़ पाया है राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत ने तो साल 2003 में ही विधानसभा में प्रस्ताव पास करके केंद्र सरकार को भेज दिया था भाजपा ने भी अपने घोषणा-पत्र में राजस्थानी भाषा को मान्यता दिलाने का उल्लेख किया था लेकिन अभी तक राजस्थानी भाषा को मान्यता नहीं मिल पाई है
समिति में ये लोग हैं शामिल
इस दौरान समिति से जुड़े सदस्यों शिवानी राठौड़, खुशी शेखावत, सीमा राठौड़,खुशी पुरोहित, निर्मला राठौड़, ममता कंवर, ओम कंवर, पूनम रावलोत, हर्षिता राठौड़, दीपा पारेख, हेमा गहलोत, विनीता,अंकिता शर्मा, सरिता राठौड़, रेनू शेखावत और रेनू भाटी ने राजस्थानी भाषा को मान्यता दिलाने तक सक्रिय रहने का संकल्प लिया


रक्षा के क्षेत्र में साझेदारी की तलाश में भारत और कजाखस्तान, राजनाथ सिंह ने अपने समकक्ष नूरलान के साथ बैठक की

रक्षा के क्षेत्र में साझेदारी की तलाश में भारत और कजाखस्तान, राजनाथ सिंह ने अपने समकक्ष नूरलान के साथ बैठक की

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने शुक्रवार को कजाखस्तान के अपने समकक्ष लेफ्टिनेंट जनरल नूरलान येरमेकबायेव के साथ बैठक की। इस वार्ता के दौरान दोनों देशों के बीच रक्षा औद्योगिक सहयोग को लेकर संभावनाए तलाशने पर ध्यान केंद्रित किया गया। इस द्विपक्षीय वार्ता के बाद राजनाथ सिंह ने कहा कि दोनों पक्ष रक्षा और सुरक्षा के सभी क्षेत्रों में सहयोग बढ़ाने के अवसर तलाश रहे हैं।

रक्षा मंत्रालय ने बताया कि दोनों मंत्रियों ने प्रशिक्षण, सैन्य अभ्यास और सैन्य क्षमता बढ़ाने समेत विभिन्न क्षेत्रों में सहयोग बढ़ाने के लिए विचारों का आदान-प्रदान किया। ध्यान रहे नुरलान यरमेकबेयेव सात से दस अप्रैल तक भारत की आधिकारिक यात्रा पर हैं। रक्षा मंत्रालय की मानें तो आपसी हितों को ध्यान में रखते हुए ही रक्षा साझेदारी की संभावना तलाशने पर सहमत हैं।

यरमेकबेयेव 7-10 अप्रैल के आधिकारिक दौरे पर भारत आए हैं। नुरलान यरमेकबेयेव ने राजनाथ सिंह को संयुक्त राष्ट्र की अंतरिम फोर्स में कजाख बलों की तैनाती का मौका देने पर धन्यवाद कहा है। सीडीएस जनरल बिपिन रावत, नौसेना प्रमुख एडमिरल करमबीर सिंह, रक्षा सचिव अजय कुमार, रक्षा उत्पादन सचिव राजकुमार और कई अन्य बड़े अधिकारी भी इस प्रतिनिधिमंडल स्तर की वार्ता में शामिल हुए।


दिल्ली आने से पहले, यरमेकबेयेव जयपुर स्थित 12वीं कोर बटालियन के मुख्यालय और जैसलमेर के लोंगेवाल सेक्टर का दौरा करने भी गए थे। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने ट्वीट कर बताया- हमने द्विपक्षीय रक्षा समझौतों की व्यापक समीक्षा की। साथ ही रक्षा एवं सुरक्षा से संबंधित सभी क्षेत्रों में सहयोग बढ़ाने के तौर-तरीकों पर गहन विचार-विमर्श किया।  


CM योगी ने यूपी में 10 नए ऑक्सीजन प्लांट लगाने का निर्देश दिया, 6 करोड़ से ज्यादा खर्च होंगे       यूपी: साप्ताहिक बंदी के दौरान इन उद्योगों को सरकार ने दी राहत, पहले से तय शादियों में भी शर्तों के साथ छूट       HC के चीफ जस्टिस गोविंद माथुर ने की CM योगी की तारीफ, कहा...       उत्तर प्रदेश में कोरोना का कहर, बीते 24 घंटे में 120 की मौत, 27357 नए संक्रमित       विटामिन सी से भरपूर चीजों को करें डाइट में शामिल और रहें इंफेक्शन से दूर       इंफेक्शन से रहना हो दूर या पेट दर्द की समस्या से चाहिए छुटकारा, हल्दी है इन सबका कारगर इलाज       अच्छे खानपान के साथ इन चीजों का भी रखेंगे ध्यान तो बने रहेंगे लंबे समय तक हेल्दी       घर पर आसानी से बनाएं ये 5 अलग-अलग किस्म की चाय       कोरोना वायरस में हल्के, मामूली और गंभीर लक्षणों को कैसे पहचानें?       किसी भी उम्र में हो सकता है डायबिटीज, जानें इसकी वजहें, लक्षण, बचाव व उपचार       वैज्ञानिक ने की पुष्टि, सूंघने और स्वाद के भाव का खोना है COVID-19 का शुरुआती लक्षण       इन चीजों के सेवन से शरीर में नहीं होगी पानी की कमी, दूर रहेंगी बीमारियां       अस्थमा के मरीज कोरोना वायरस से बचने के लिए ये टिप्स अपनाएं       कहीं आप भी तो नहीं कर रहे मास्क पहनने में ये 5 ग़लतियां?       बढ़ते वजन से हैं परेशान तो ब्रेकफास्ट में इन चीजों को जरूर जोड़ें       एक्सपर्ट से जानें क्या होता है पैनिक डिसऑर्डर, इसके लक्षण बचाव एवं उपचार के बारे में       लगातार मास्क पहनने से त्वचा में होने वाली परेशानियों को ऐसे करें दूर       इस तरह बनाएं अपना डाइट प्लान, आपका वजन भी रहेगा कंट्रोल       पुरानी बीमारियों से छुटकारा के लिए ड्रैगन फ्रूट खाएं, इसके ये हैं फायदे       'शांति' बन घर-घर में मशहूर हुई थीं मंदिरा बेदी, अपनी प्रेग्नेंसी की वजह से हमेशा रहीं चर्चा में